प्रतिपुष्टी शिकायतेसंपर्क

संयुक्‍त उपक्रम

हिन्दी
Image: 

पेट्रोलियम उत्पादों के कच्चे तेल की रिफाइनिंग और विपणन करना कॉर्पोरेशन का मुख्य कार्य है। राजस्व तथा दूर-दराज क्षेत्रों में कारोबार बढ़ाने के लिए नए अवसर तलाश किये जा रहै है| तदनुसार, एचपीसीएल ने शोधन, कोलतार पायस, पाइप लाइन, सिटी गैस वितरण (सीजीडी), एलपीजी गुफा, प्राकृतिक गैस पाइपलाइनों, एलएनजी टर्मिनल और जैव ईंधन के लिए सहायक और संयुक्त उद्यम कंपनियों का गठन किया है।

संयुक्त उपक्रम

Logo of HMEL एचपीसीएल-मित्तल एनर्जी लिमिटेड (एचएमईएल)

एचपीसीएल-मित्तल एनर्जी लिमिटेड (एचएमईएल), एचपीसीएल और मित्तल एनर्जी इनवेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड, सिंगापुर के बीच संयुक्त उपक्रम है, जिसमें हर एक का इक्विटी धारण 48.99% है।

एचएमईएल पंजाब के बठिंडा जिले में 11.3 एमएमटीपीए की एक रिफाइनरी संचालित करती है। यह रिफाइनरी पेट्रोलियम उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला का उत्पादन करती है, जिसमें एलपीजी, नेफ्था, पेट्रोल, डीजल, एटीएफ, बिटुमेन, पेट्रोलियम कोक, पॉलीप्रोपलीन और सल्फर शामिल हैं।

एचएमईएल रिफाइनरी की क्षमता को 9 एमएमटीपीए से 11.3 एमएमटीपीए तक बढ़ाने का काम 2017-18 के दौरान पूरा हो गया था और बीएस-6 ग्रेड ईंधन के उत्पादन की परियोजना कार्यान्वित होने वाली है।

2017-18 के दौरान, एचएमईएल ने 8.83 एमएमटी कच्चे तेल को साफ़ किया और 1,629 करोड़ रुपये के कर उपरांत लाभ के साथ 40,701 करोड़ रुपये का कुल मुनाफा दर्ज किया। एचएमईएल ने मौजूदा रिफाइनरी कॉम्प्लेक्स के भीतर 1.2 एमएमटीपीए के एकीकृत पेट्रोकेमिकल ब्लॉक की स्थापना के लिए 21,700 करोड़ रुपये के प्रस्तावित निवेश की भी शुरुआत की है।

एचएमईएल ने हमेशा अपने कर्मचारियों के बीच कामकाजी, पारदर्शिता और प्रदर्शन की संस्कृति को बढ़ावा दिया है और 2017-18 के दौरान इसे ‘काम करने की शानदार जगह’ के रूप में प्रमाणित किया गया है। पहली बार, एचएमईएल ने हादसे और चोट मुक्त कार्यस्थल की दिशा में स्थिर प्रतिबद्धता के साथ 10 मिलियन सुरक्षित मानव-घंटे की उपलब्धि हासिल की।

Logo of HINCOL हिंदुस्तान कोला प्राइवेट लिमिटेड (एचआईएनसीओएल)

हिंदुस्तान कोला प्राइवेट लिमिटेड (एचआईएनसीओएल) एचपीसीएल और फ्रांस के मैसर्स कोलास एस.ए. के बीच एक संयुक्त उपक्रम है जिसमें हर एक का इक्विटी शेयरधारण 50% है।

एचआईएनसीओएल बिटुमेन इमल्शन्स और संशोधित बिटुमेन का विनिर्माण और बिक्री करती है। एचआईएनसीओएल फुटपाथ रखरखाव की गतिविधियां जैसे माइक्रोसर्फेसिंग, स्लरी सीलिंग और फॉग सीलिंग भी करती है और भारत में बिटुमेन इमल्शन्स की बिक्री में बाजार में अग्रणी है।

एचआईएनसीओएल सामरिक रूप से महत्वपूर्ण स्थापित नौ (9), आईएसओ 9001/14001 और ओएचएसएएस 18001 प्रमाणित प्लांट के मालिक है और संचालित करती है। गुवाहाटी में इसके 10वें प्लांट का निर्माण और विशाखापत्तनम में मौजूदा प्लांट की जगह बदलने का काम प्रगति पर है। जेवी ने टर्मिनलिंग, वाटरप्रूफिंग समाधान इत्यादि में नए व्यावसायिक अवसरों की खोज के अलावा अपने मौजूदा मुख्य व्यवसाय में समेकन का पाठ्यक्रम चार्टर्ड किया है। हल्दिया में एचआईएनसीओएल की पहली बिटुमेन स्टोरेज सुविधा निर्माणाधीन है और इस दिशा में एक कदम है।

गुणवत्ता के प्रति अपनी वचनबद्धता के कारण कंपनी भारत में बड़ी आधारभूत संरचना परियोजनाओं के लिए पसंदीदा आपूर्तिकर्ता बनी हुई है। 2017-18 के दौरान, एचआईएनसीओएल ने भारत में कई सड़क परियोजनाओं के लिए बिटुमेन इमल्शन्स की आपूर्ति की, जो बिक्री में दर्ज की गई 5% से ज्यादा की ऐतिहासिक वृद्धि है। इसने चंडीगढ़ और कन्नूर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों और पुणे, तांबाराम, अवंतीपुर, सिरसा एवं कलबुर्गी में वायुसेना स्टेशन में रनवे के निर्माण के लिए पॉलिमर संशोधित बिटुमेन भी प्रदान किया है।

2017-18 के दौरान, एचआईएनसीओएल ने 708.86 करोड़ रुपये की कुल 209 टीएमटी बिक्री मात्रा और 100.16 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया।

एचआईएनसीओएल पिछले 18 सालों से लाभांश दे रही है और 2017-18 के लिए 700% का सबसे ज्यादा लाभांश घोषित कर चुकी है।

Logo of SALPG साउथ एशिया एलपीजी कं. प्रा. लि. (एसएएलपीजी)

दक्षिण एशिया एलपीजी कंपनी प्रा. लिमिटेड (एसएएलपीजी), एचपीसीएल और टोटल होल्डिंग इंडिया के बीच संयुक्त उपक्रम है जिसमें हर एक का इक्विटी धारण 50% है।

एसएएलपीजी विशाखापत्तनम में 60 टीएमटी क्षमता के भूमिगत एलपीजी भंडारण का मालिक है और उससे जुड़ी प्राप्ति और प्रेषण सुविधाएं संचालित करती है। यह गुफा देश में एकमात्र भूमिगत एलपीजी गुफा भंडारण सुविधा है।

2017-18 के दौरान, एसएएलपीजी की गुफा ने पिछले वर्ष की 1.627 एमएमटी की तुलना में 1.686 एमएमटी एलपीजी प्राप्त की, जो कि 3.63% की वृद्धि है। 2017-18 के दौरान एसएएलपीजी ने 228.38 करोड़ रुपये का कुल मुनाफ़ा हासिल किया है और 118.21 करोड़ रुपये का कर उपरांत लाभ दर्ज किया है।

एसएएलपीजी व्यवसाय के सभी पहलुओं में सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है। कंपनी ने अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप एचएसई प्रबंधन प्रणाली की स्थापना की है। जनवरी 2008 में संचालन शुरू होने के बाद से, एसएएलपीजी ने 31 मार्च, 2018 तक 20.99 लाख सुरक्षित मानव-घंटे हासिल किए हैं।

एसएएलपीजी को गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली के लिए आईएसओ 9001-2008 प्रमाणीकरण, पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली के लिए आईएसओ 14001-2004 प्रमाणीकरण तथा व्यावसायिक स्वास्थ्य और सुरक्षा प्रबंधन प्रणाली के लिए ओएचएसएएस 18001- 2007 प्रमाणीकरण दिया गया है।

एसएएलपीजी पिछले 8 सालों से लगातार लाभांश का भुगतान कर रही है। वर्ष 2017-18 के लिए, एसएएलपीजी बोर्ड ने 90% के उच्चतम लाभांश की सिफारिश की है।

Logo of BGL भाग्यनगर गैस लिमिटेड (बीजीएल)

भाग्यनगर गैस लिमिटेड (बीजीएल) एचपीसीएल और जीएआईएल का संयुक्त उपक्रम है जिसमें हर एक का इक्विटी धारण 49.97% है।

31 मार्च, 2018 तक, बीजीएल के पास 595 किलोमीटर की एमडीपीई पाइपलाइन और 115.21 किलोमीटर स्टील पाइपलाइन वाला शहरी गैस वितरण नेटवर्क है और वह 21,678 घरेलू ग्राहकों को सेवा प्रदान कर रही है। बीजीएल आंध्र प्रदेश और तेलंगाना राज्यों में हैदराबाद, विजयवाड़ा और काकीनाड़ा शहरों में 51 सीएनजी स्टेशन (3 मदर स्टेशन, 42 डॉटर स्टेशन और 6 ऑनलाइन स्टेशन) भी संचालित करती है।

2017-18 के दौरान, बीजीएल ने सीएनजी की 29,419 मीट्रिक टन और पीएनजी की 124.10 लाख मानक घन मीटर (एससीएम) बिक्री मात्रा हासिल की है, पीएनजी की बिक्री में 248% की वृद्धि दर्ज की गई है। बीजीएल ने 2017-18 के दौरान 9.16 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ के साथ 158.96 करोड़ रुपये का सबसे ज्यादा मुनाफ़ा दर्ज किया है।

Logo of Avantika Gas Ltdअवन्तिका गैस लिमिटेड (एजीएल)

अवंतिका गैस लिमिटेड (एजीएल) एचपीसीएल और जीएआईएल का संयुक्त उपक्रम है जिसमें हर एक का इक्विटी धारण 49.98% है।

31 मार्च, 2018 तक, एजीएल के पास 1,615 किलोमीटर की एमडीपीई पाइपलाइन और 100 किलोमीटर स्टील पाइपलाइन वाला शहरी गैस वितरण नेटवर्क है और जो 25,921 घरेलू ग्राहकों को सेवा प्रदान कर रही है। एजीएल मध्यप्रदेश राज्य के इंदौर, उज्जैन, पीथमपुर और ग्वालियर शहरों में 26 सीएनजी स्टेशन (4 मदर स्टेशन, 10 डॉटर स्टेशन और 12 ऑनलाइन स्टेशन) भी संचालित करती है।

2017-18 के दौरान, एजीएल ने सीएनजी की 21,868 मीट्रिक टन और पीएनजी की 116.53 लाख एससीएम बिक्री मात्रा हासिल की है, जो पिछले वर्ष की तुलना में क्रमश: 14% और 22% ज्यादा है। एजीएल ने 2017-18 के दौरान 24.28 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ के साथ 149.2 करोड़ रुपये का अब तक का सबसे ज्यादा मुनाफ़ा दर्ज किया है।

Logo of Petronet MHB ltd. पेट्रोनेट एमएचबी लिमिटेड (पीएमएचबीएल)

पेट्रोनेट एमएचबी लिमिटेड (पीएमएचबीएल), एचपीसीएल और ओएनजीसी का संयुक्त उपक्रम है जिसमें हर एक की इक्विटी शेयरधारण 32.72% है और शेष 34.56% इक्विटी बैंकों द्वारा रखी गई है। पीएमएचबीएल, एमआरपीएल रिफाइनरी के उत्पादों को कर्नाटक के विभिन्न हिस्सों में ट्रांसपोर्ट करने के लिए बहुउद्देशीय पेट्रोलियम पाइपलाइन का मालिक है और उसे संचालित करती है।

2017-18 के दौरान, पीएमएचबीएल ने पिछले वर्ष के दौरान के 3.43 एमएमटी की तुलना में 3.5 एमएमटी की उच्चतम प्रवाह क्षमता हासिल की है। पीएमएचबीएल ने पिछले वर्ष के 170.20 करोड़ रुपये की तुलना में 171.13 करोड़ रुपये का कुल मुनाफ़ा अर्जित किया है और 2016-17 में प्राप्त 80.95 करोड़ रुपये की तुलना में 83.46 करोड़ रुपये का उच्चतम शुद्ध लाभ दर्ज किया है। पीएमएचबीएल ने वर्ष 2017-18 के लिए शेयरधारकों को 9% का अपना पहला अंतरिम लाभांश दिया है।

अपने पाइपलाइन नेटवर्क को आगे बढ़ाने के लिए, पीएमएचबीएल ने कर्नाटक राज्य में हसन से चित्रदुर्ग (मौजूदा हसन पंपिंग स्टेशन से) तक पेट्रोलियम उत्पाद पाइपलाइन बिछाने के लिए पीएनजीआरबी को पसंद की अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है।

पीएमएचबीएल की एकीकृत प्रबंधन प्रणाली (आईएमएस) गुणवत्ता प्रबंधन के लिए आईएसओ-9001, पर्यावरण प्रबंधन के लिए आईएसओ-14001, व्यावसायिक स्वास्थ्य और सुरक्षा प्रबंधन के लिए ओएचएसएएस-18001 और ऊर्जा प्रबंधन के लिए आईएसओ-50001 के साथ प्रमाणित है। कंपनी ने परिचालनों के लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार अपने विभिन्न नए तकनीकी समाधान भी परिनियोजित किए हैं।

Logo of MRPL मैंगलूर रिफाइनरीज़ एण्ड पेट्रोकैमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल)

मैंगलोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकैमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल), एचपीसीएल और ओएनजीसी का संयुक्त उपक्रम है, जिसमें ओएनजीसी की 71.63% इक्विटी है, एचपीसीएल की 16.96% इक्विटी है और शेष इक्विटी आम लोगों के पास है।

एमआरपीएल एक अनुसूची 'ए' मिनीरत्न केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम (सीपीएसई) और एक सूचीबद्ध इकाई है, जो कर्नाटक के मैंगलोर में 15 एमएमटीपीए क्षमता की रिफाइनरी संचालित करती है।

2017-18 के दौरान, एमआरपीएल ने 2016-17 के दौरान प्राप्त 16.27 एमएमटी की तुलना में 16.31 एमएमटी की उच्चतम प्रवाह क्षमता हासिल की है और 1,774 करोड़ रुपये के कर उपरांत लाभ के साथ 63,962 करोड़ रुपये का समेकित कुल मुनाफ़ा दर्ज किया है।

एमआरपीएल ने 6.063 मेगावॉट क्षमता की सौर ऊर्जा परियोजना सफलतापूर्वक शुरू की है जो देश में किसी रिफाइनरी साइट में सबसे बड़ी सौर ऊर्जा परियोजना है।

Logo of MAFFL मुंबई विमानन ईंधन फार्म सुविधा प्रा. लिमिटेड (एमएएफएफएफएल)

मुंबई एविएशन ईंधन फार्म फैसीलिटी प्रा. लिमिटेड (एमएएफएफएफएल), मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (एमआईएएल), इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और एचपीसीएल का संयुक्त उपक्रम है, जिसमें हर एक का इक्विटी धारण 25% है।

कंपनी का कारोबार मौजूदा विमानन ईंधन फॉर्म सुविधाओं को संचालित करना और बनाए रखना है और छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (सीएसआईए), मुंबई में इंटोप्लेन सेवाएं प्रदान करना है। कंपनी खुली पहुंच के आधार पर नई एकीकृत ईंधन फॉर्म सुविधा का निर्माण, रखरखाव और संचालन करेगी। एमएएफएफएफएल का राजस्व ईंधन आधारभूत संरचना शुल्क के माध्यम से होगा, जो आपूर्तिकर्ताओं द्वारा सुविधा का उपयोग करने पर दिया जाएगा।

2017-18 के दौरान, एमएएफएफएफएल ने पिछले वर्ष के 16.55 लाख केएल की तुलना में 18.03 लाख केएल की प्रवाह क्षमता हासिल की है, जो 8.94% की वृद्धि है। एमएएफएफएफएल ने पिछले वर्ष के 127.60 करोड़ रुपये की तुलना में 2017-18 के दौरान 139.38 करोड़ रुपये का कुल मुनाफ़ा दर्ज किया है और पिछले वर्ष के 26.58 करोड़ रुपये की तुलना में 47.22 करोड़ रुपये का कर उपरांत सबसे ज्यादा 78% का लाभ दर्ज किया है। एमएएफएफएफएल ने वर्ष 2017-18 के लिए शेयरधारकों को 10% का अपना पहला अंतरिम लाभांश दिया है।

2017-18 के दौरान, एकीकृत ईंधन फॉर्म परियोजना की एकीकृत समग्र प्रगति लगभग 68% है।

Logo of GIGL जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड (जीआयजीएल)

जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड (जीआईजीएल), गुजरात स्टेट पेट्रोनेट लिमिटेड (जीएसपीएल), इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और एचपीसीएल का संयुक्त उपक्रम है। एचपीसीएल के पास कंपनी की 11% इक्विटी भागीदारी है और शेष जीएसपीएल (52%), आईओसीएल (26%) और बीपीसीएल (11%) के पास है।

जीआईजीएल को दो अंतर-देशीय गैस पाइपलाइनों को बिछाने के लिए अधिकृत किया गया है जिसमें मेहसाणा से भटिंडा तक 1,640 किमी लंबी पाइपलाइन और भटिंडा से श्रीनगर तक 740 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन शामिल है।

कंपनी को परियोजनाओं के प्रारंभिक वर्गों, जैसे कि बाड़मेर-पाली पाइपलाइन, पालनपुर-पाली पाइपलाइन और जालंधर-अमृतसर पाइपलाइन के लिए ईपीसी अनुबंध से सम्मानित किया गया है। इन तीनों वर्गों के लिए पाइपलाइन, सिविल निर्माण कार्य इत्यादि जैसी परियोजना कार्यान्वयन गतिविधियां पूरी गति में हैं।

Logo of GITL जीएसपीएल इंडिया ट्रांस्को लिमिटेड (जीआयटीएल)

जीएसपीएल इंडिया ट्रांसको लिमिटेड (जीआईटीएल), गुजरात स्टेट पेट्रोनेट लिमिटेड (जीएसपीएल), इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और एचपीसीएल का संयुक्त उपक्रम है। एचपीसीएल के पास कंपनी की 11% इक्विटी भागीदारी है और शेष जीएसपीएल (52%), आईओसीएल (26%) और बीपीसीएल (11%) के पास है।

जीआईटीएल को मल्लवारम से भीलवाड़ा तक 1,881 किलोमीटर लंबी प्राकृतिक गैस पाइपलाइन बिछाने के लिए अधिकृत किया गया है।

कंपनी को रिलायंस गैस ट्रांसमिशन लिमिटेड पाइपलाइन से रामगुंडम फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स लिमिटेड प्लांट तक के शुरुआती खंड को जोड़ने के लिए ईपीसी अनुबंध प्रदान किया गया है।

Logo of HSEPL एचपीसीएल शापूरजी एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड (एचएसईपीएल)

एचपीसीएल शापूरजी एनर्जी प्रा. लिमिटेड (एचएसईपीएल), एचपीसीएल और एसपी पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच संयुक्त उपक्रम है जिसमें हर एक का इक्विटी शेयर धारण 50% है।

एचएसईपीएल को जिला गिर सोमनाथ, गुजरात के छारा बंदरगाह में 5 एमएमटीपीए एलएनजी रिगैसीफिकेशन टर्मिनल बनाने और संचालित करने के लिए बनाया गया है। इस परियोजना में करीब 4,300 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है, जिसमें ऋण और इक्विटी का मिश्रित वित्त पोषण शामिल है। मुख्य एलएनजी टर्मिनल सुविधाओं में एलएनजी कैरियर बर्थिंग और अनलोडिंग के लिए समुद्री सुविधाएं, स्टोरेज टैंक, शैल और ट्यूब वैपोराइज़र (एसटीवी) आधारित रिगैसीफिकेशन सुविधा और बॉइल-ऑफ सिस्टम एवं आपातकालीन जनरेटर जैसी उपयोगिताएं शामिल हैं।

अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धी बोली-प्रक्रिया के माध्यम से परियोजना के लिए ईपीसी अनुबंध प्रदान करने की प्रक्रिया प्रगति पर है तथा स्टोरेज टैंक और रिगैसीफिकेशन सुविधाओं के लिए स्वीकृति पत्र (एलओए) जारी किया गया है। पेट्रोलियम एवं विस्फोटक सुरक्षा संगठन (पीईएसओ) ने सुविधाओं के निर्माण के लिए मंजूरी दे दी है। परियोजना के लिए पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफ और सीसी) से पर्यावरण मंजूरी (ईसी) मिलने का इंतजार है।

Logo of GGPL गोदावरी गैस प्रा. लिमिटेड (जीजीपीएल)

गोदावरी गैस प्रा. लिमिटेड (जीजीपीएल), आंध्र प्रदेश गैस डिस्ट्रीब्यूशन कार्पोरेशन लिमिटेड (एपीजीडीसी) और एचपीसीएल के बीच 74:26 के अनुपात में इक्विटी हिस्सेदारी वाला संयुक्त उपक्रम है।

जीजीपीएल को आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी और पश्चिमी गोदावरी जिलों में शहरी गैस वितरण नेटवर्क को विकसित और संचालित करने के लिए गठित किया गया है। इस परियोजना में पहले पांच वर्षों में 475 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।

जीजीपीएल 31 मार्च, 2018 तक, कोव्वुर, पश्चिमी गोदावरी जिले में 1 सीएनजी मदर स्टेशन और ओएमसी रिटेल आउटलेट्स पर 4 डॉटर बूस्टर स्टेशन संचालित करती है। 2017-18 के दौरान, जीजीपीएल ने 430.99 एमटी सीएनजी की बिक्री करके 1.95 करोड़ रुपये का कारोबार दर्ज किया है।

Logo of RRPCL रत्नागिरि रिफाइनरी एवं पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (आरआरपीसीएल)

रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकैमिकल्स लिमिटेड (आरआरपीसीएल), आईओसीएल, बीपीसीएल और एचपीसीएल द्वारा 50:25:25 के अनुपात में इक्विटी भागीदारी वाली संयुक्त उपक्रम कंपनी है।

आरआरपीसीएल ने महाराष्ट्र राज्य के रत्नागिरी जिले में 60 एमएमटीपीए की एकीकृत रिफाइनरी सह-पेट्रोकेमिकल्स कॉम्प्लेक्स स्थापित करने की योजना बनाई है। कंपनी ने महाराष्ट्र सरकार के माध्यम से भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू की है। परियोजना के लिए पूर्व परियोजना गतिविधियां जैसे पूर्व व्यवहार्यता अध्ययन, बाजार अध्ययन शुरू किए गए हैं।

सहायक कंपनियां

Logo of Prize Petroleum Company Ltd प्राइज पेट्रोलियम कंपनी लिमिटेड (पीपीसीएल)

प्राइज़ पेट्रोलियम कंपनी लिमिटेड (पीपीसीएल), एचपीसीएल के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है। पीपीसीएल, एचपीसीएल की अपस्ट्रीम शाखा है और हाइड्रोकार्बन्स की खोज और उसके उत्पादन (ईएंडपी) के कारोबार में है और साथ ही ईएंडपी ब्लॉक के प्रबंधन के लिए सेवाएं भी उपलब्ध करा रही है। 2017-18 के दौरान, पीपीसीएल ने हीरापुर (गुजरात) में घरेलू तेल क्षेत्र से 33,752 बैरल कच्चे तेल का कुल उत्पादन हासिल किया।

पीपीसीएल की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी अर्थात प्राइज़ पेट्रोलियम इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड (पीपीआईपीएल) है, जो सिंगापुर में निगमित है। पीपीआईपीएल के पास ऑस्ट्रेलिया में दो ईएंडपी ब्लॉक, टी/एल1 और टी/18पी में क्रमश: 11.25% और 9.75% हिस्से वाले हित हैं। पीपीआईपीएल ने योला उत्पादन क्षेत्र (टी/एल1) से 459,269 बीओई (तेल समकक्ष के बैरल) के उत्पादन का अपना हिस्सा हासिल कर लिया है।

2017-18 के दौरान, पीपीसीएल ने पिछले वर्ष के दौरान प्राप्त 86.49 करोड़ रुपये की तुलना में समेकित आधार पर 106.27 करोड़ रुपये का कुल राजस्व हासिल किया है।

Logo of HBL एचपीसीएल जैव ईंधन लिमिटेड (एचबीएल)

एचपीसीएल बायोफ्यूल्स लिमिटेड (एचबीएल), एचपीसीएल के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है। पेट्रोलियम में मिलाने के लिए ईथनॉल के निर्माण में एचपीसीएल के प्रयास को सक्षम करने के लिए एचबीएल को पश्चवर्ती एकीकरण पहल के रूप में बढ़ावा दिया गया था। एचबीएल के पास वर्तमान में बिहार राज्य के सगौली और लौरिया में दो एकीकृत चीनी-इथेनॉल-सहउत्पादन संयंत्र हैं।

2017-18 के दौरान, एचबीएल ने 136.50 करोड़ रुपये का कुल मुनाफ़ा दर्ज किया है और 9.04% की औसत चीनी रिकवरी के साथ 699 टीएमटी की गन्ना पिराई की है। एचबीएल ने 2017-18 के दौरान 63,870 मीट्रिक टन चीनी का उत्पादन, 7,025 केएल का इथेनॉल उत्पादन और 79,085 मेगावाट बिजली का उत्पादन भी किया है।

Logo of HRRL एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड (एचआरआरएल)

एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड (एचआरआरएल), एचपीसीएल और राजस्थान सरकार का संयुक्त उपक्रम है, जिसमें एचपीसीएल की 74% इक्विटी भागीदारी है और शेष 26% राजस्थान सरकार के पास है। एचआरआरएल राजस्थान में 9 एमएमटीपीए क्षमता की ग्रीनफील्ड रिफाइनरी सह-पेट्रोकेमिकल कॉम्प्लेक्स स्थापित कर रही है।

उक्त रिफाइनरी का संशोधित मापदंड के साथ निर्माण के लिए एचपीसीएल और राजस्थान सरकार ने 18 अप्रैल, 2017 को संशोधित समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। संशोधित संयुक्त उपक्रम अनुबंध पर 17 अगस्त, 2017 को हस्ताक्षर किए गए थे। 9 एमएमटीपीए की राजस्थान रिफाइनरी का काम शुरू होने का समारोह 16 जनवरी, 2018 को भारत के माननीय प्रधानमंत्री के हाथों किया गया था।

परियोजना के लिए पूर्व परियोजना गतिविधियां उन्नत चरण में हैं। परियोजना की लागत 43,129 करोड़ रुपये होने का अनुमान है।

एचपीसीएल मिडिल ईस्ट एफजेडसीओ

एचपीसीएल मिडिल ईस्ट एफजेडसीओ, जो एचपीसीएल की 100% सहायक कंपनी है को 11 फरवरी, 2018 को दुबई एयरपोर्ट फ्री जोन के तहत एक फ्री जोन कंपनी के रूप में निगमित किया गया था और कंपनी के लिए 22 मार्च, 2018 को स्थापना कार्ड जारी किया गया था।

एचपीसीएल मिडिल ईस्ट एफजेडसीओ को लुब्रिकेंट्स एवं ग्रीस, पेट्रोकेमिकल्स एवं परिष्कृत पेट्रोलियम उत्पादों के व्यवसाय के लिए स्थापित किया गया था। सहायक कंपनी मध्य पूर्व और अफ्रीका के चुनिंदा बाजारों में सेवा देगी।

Other Links

अस्वीकरण: उपरोक्त लिंक पर क्लिक करने से आप सीधे इन संगठनों की वेबसाइट पर पहुंच जाएगें तथा इन वेबसाइटों पर इन संगठनों तथा हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिंमिटेड के संदर्भ में दी गयी सूचना तथा व्यक्त किए गये विचार इन वेबसाइटों की सामग्री की सटीकता/विचारों के लिए जिम्मेदार नहीं हैं।