प्रतिक्रिया शिकायतेंसंपर्क

संयुक्‍त उपक्रम

हिन्दी
Image: 

पेट्रोलियम उत्पादों के कच्चे तेल की रिफाइनिंग और विपणन करना कॉर्पोरेशन का मुख्य कार्य है। राजस्व तथा दूर-दराज क्षेत्रों में कारोबार बढ़ाने के लिए नए अवसर तलाश किये जा रहै है| तदनुसार, एचपीसीएल ने शोधन, कोलतार पायस, पाइप लाइन, सिटी गैस वितरण (सीजीडी), एलपीजी गुफा, प्राकृतिक गैस पाइपलाइनों, एलएनजी टर्मिनल और जैव ईंधन के लिए सहायक और संयुक्त उद्यम कंपनियों का गठन किया है।

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करने पर आप इन संगठनों की वेबसाइटस पर पहुँच जायेंगे, और यहां पर उपलब्ध सूचना और व्यक्त किए गए विचार संबंधित संगठनों के ही हैं| तथा हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड यहां पर व्यक्त किए गए विचारों/डेटा की सटीकता के लिए उत्तरदायी नहीं है।

संयुक्त उपक्रम

Logo of HMEL एचपीसीएल-मित्तल एनर्जी लिमिटेड (एचएमईएल) External Website that opens in a new window

एल.एन. मित्तल समूह की एक कंपनी, मित्तल एनर्जी इन्वेस्टमेंट प्रा.(एमईआई) लिमिटेड, सिंगापुर और पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड के बीच एचएमईएल एक संयुक्त उपक्रम है| कंपनी की स्थापना 13 दिसंबर 2000 को हुई थी | प्रारंभिक अधिकृत शेयर पूंजी 10,000 करोड़ रुपये थी । 31 मार्च 2016 की स्थिति के अनुसार, एचएमईएल ने 8,041.10 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।एचपीसीएल की 48.99% इक्विटी भागीदारी एचएमईएल में है।एचएमईएल ने 9 एमएमटीपीए की प्रारंभिक क्षमता वाली अत्याधुनिक ग्रीनफ़ील्ड रिफाइनरी का निर्माण किया है| इसे गुरु गोबिंद सिंग रिफाइनरी (जीजीएसआर) के नाम से जाना जाता है और यह पंजाब भटिंडा में है | 28 अप्रैल 2012 को इसे भारत के माननीय प्रधानमंत्री ने देश को समर्पित किया है |

रिफाइनरी भारी और खट्टा कच्चे तेलों प्रक्रिया करने की क्षमता के साथ इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा नेल्सन जटिलता सूचकांकों में से एक है। एचएमईएल के संचालन में दक्षता को अधिकतम करने के लिए विश्व स्तरीय तकनीक का उपयोग किया है। वैश्विक और भारतीय विशेषज्ञों का एक मिश्रण राज्य के अत्याधुनिक रिफाइनरी के निर्माण के लिए तैनात किया गया था। रिफाइनरी उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों को पैदा करता है|वर्तमान और भविष्य के पर्यावरण संरक्षण के मानकों को पूरा करने के लिए यह सक्षम हैं|

एचएमईएल एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है| एचपीसीएल-मित्तल पाईप लाइन्स लिमिटेड (HMPL)एसपीएम की स्थापना की है| यह कच्चे तेल की प्राप्ति, भंडारण और देशभर में कच्चे तेल का वितरण करती है| एचएमपीएल ने मुंद्रा (गुजरात) से बठिंडा (पंजाब) तक 1017 किलोमीटर पाइपलाइन बनायी है|

Logo of HINCOL हिंदुस्तान कोला प्राइवेट लिमिटेड (हिनकोल) External Website that opens in a new window

हिनकोल एचपीसीएल और मेसर्स कोलास एसए, फ्रांस के साथ शुरू किया गया एक संयुक्त उपक्रम है और इसकी स्थापना 17 जुलाई 1995 को हुई थी| हिनकोल की अधिकृत शेयर पूंजी है 30 करोड़ रुपये ।
एचपीसीएल की हिनकोल में 50% इक्विटी की भागीदारी है। 31मार्च 2016 तक हिनकोल की 9.45 करोड़ रूपए की चुकता पूंजी है|

हिनकोल ने उत्पाद और मार्केटिंग में कई सालों की कड़ी मेहनत से मार्केट में अपना स्थान बनाया है| बिटुमिन इमलशन्स, सुधारित बिटुमिन और दूसरे मूल्यवर्धित प्रोडक्ट्स के निर्माण और मार्केटिंग में हम सबसे आगे है| आज भारत में हिनकोल के आठ , आईएसओ 9001/14001 और ओएचएसएएस 18001 प्रमाणित प्लांट्स है। कंपनी ने मार्च 2016 में पश्चिम बंगाल राज्य में उलूबेरिया में एम / एस शेल इंडिया मार्केट्स प्राइवेट लिमिटेड से अपनी 9 वीं प्लांट का अधिग्रहण किया है | हिनकोल उत्पादों का सड़क निर्माण के उद्योग में काफ़ी उपयोग किया जाता हैं।

हिनकोल ने मुख्य सड़क निर्माण कंपनियों की लागत को कम करने और उत्पादकता और सुरक्षा बढ़ाने के लिए कुंजी खाता प्रबंधन (KAM)की शुरुआत की हैं |यह हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, महाराष्ट्र और केरल में ग्रामीण सड़कों के निर्माण के लिए हर मौसम में ,`कोल्ड मिक्स, 'पर्यावरण के अनुकूल उपयोग करते हुए सफल परीक्षण किया जाता है| इसके लिए पीडब्ल्यूडी / पीएमजीएसवाय के स्थानीय इंजीनियरों की सहायता ली जाती हैं | इसके लिए नया उत्पाद 'ट्रैकलेस टैक इमल्शन ' विकसित किया गया है जिसके कारण सड़क पक्की बनती है|

Logo of SALPG साउथ एशिया एलपीजी कं. प्रा. लि. (एसएएलपीजी) External Website that opens in a new window

टोटल गैस और पॉवर इंडिया (फ्रांस की एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी) के 50% इक्विटी भागीदारी की संयुक्त उपक्रम में साउथ एशिया एलपीजी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड की 16 नवंबर, 1999 को स्थापना हुई थी। इसकी अधिकृत शेयर कैपिटल की क़ीमत 100 करोड़ रूपए हैं | एचपीसीएल की एसएएलपीजी के साथ 50% इक्विटी की भागीदारी है| 31 मार्च 2016 की स्थिति के अनुसार, एसएएलपीजी की चुकता पूंजी 100 करोड़ रुपये है।

दिसंबर 2007 में एसएएलपीजी ने 60 टीएमटी क्षमता के भूमिगत सग्रंह और विशाखापट्नम में डिस्पैच सुविधा की शुरुआत की है| इसकी लागत रू.330.30 करोड़ है | एसएएलपीजी कावेर्न दक्षिण और दक्षिण - पूर्व एशिया में प्रथम स्थान पर है और विश्व के गहरे कावेर्न में इनका स्थान है | जनवरी 2008 में इसके व्यावसायिक संचालन की शुरुआत हुई थी |

एसएएलपीजी ने पूर्वी तट में अपने प्रोडक्ट लोगों तक आसानी से पंहुचाने के लिए मदद की और आसपास के क्षेत्रों में लोगों को रसोई गैस की उपलब्धता आसानी से हो, यह सुनिश्चित किया है। । इसके अलावा, कावेर्न टर्मिनल पर प्रोपेन ब्यूटेन ब्लेंडर की वजह से काफ़ी मदद मिली है| अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रोपेन की ब्यूटेन की सीमित उपलब्धता और उसके मूल्य की लाभ को ध्यान में रखते हुए विशाखापटनम में प्रोपेन इनपुट्स को अधिकतम मदद मिली है।

एसएएलपीजी को डीएनवी से ISO 9001, ISO 14001 और OHSAS 18001 के लिए आयएमएस सर्टिफिकेशन प्राप्त हुआ है|

Logo of BGL भाग्यनगर गैस लिमिटेड (बीजीएल) External Website that opens in a new window

भाग्यनगर गैस लिमिटेड (बीजीएल )पर्यावरण अनुकूल ईंधन (हरित ईंधनों) के वितरण और विपणन के लिए एक संयुक्त उद्यम कंपनी के रूप में 22 अगस्त 2003 को निगमित की गयी है| आंध्र प्रदेश राज्य में सीएनजी तथा ऑटो एलपीजी , परिवहन, घरेलू, वाणिज्यिक और औद्योगिक क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जाता है| बीजीएल की अधिकृत शेयर पूंजी है 100 करोड़ रुपये है। वित्तीय वर्ष 31 मार्च 2016 के अनुसार बीजीएल का पेड अप कैपिटल 45.03 करोड़ रुपये है| एचपीसीएल और गेल, प्रत्येक की 49.97% इक्विटी हिस्सेदारी है जबकि 0.06% महत्वपूर्ण हिस्सेदारी वित्तीय निवेशकों की है |

बीजीएल हैदराबाद (तेलंगाना), विजयवाड़ा और काकीनाडा (आंध्र प्रदेश) में सिटी गैस वितरण नेटवर्क का काम कर रहा है। बीजीएल हैदराबाद, विजयवाड़ा और काकीनाडा के तीन शहरों में 34 सीएनजी स्टेशन और 1 ऑटो एलपीजी स्टेशन तिरुपति (आंध्र प्रदेश) में एक साथ संचालित करता है।

Logo of Avantika Gas Ltdअवन्तिका गैस लिमिटेड External Website that opens in a new window

गेल के साथ संयुक्त उद्यम की यह कंपनी 07 जून, 2006 को निगमित की गई थी। मध्य प्रदेश राज्य में राज्य में सीएनजी तथा ऑटो एलपीजी , परिवहन, घरेलू, वाणिज्यिक और औद्योगिक क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जाता है| बीजीएल की अधिकृत शेयर पूंजी है 100 करोड़ रुपये है।एजीएल का अधिकृत शेयर कैपिटल 100 करोड़ रुपये है| वित्तीय वर्ष 31 मार्च 2016 के अनुसार ऐजीएल का पेड अप कैपिटल 45.03 करोड़ रुपये था, जिसमें एचपीसीएल की इक्विटी भागीदारी 49.97% थी|

एजीएल इंदौर, उज्जैन और ग्वालियर में सिटी गैस वितरण (सीजीडी) नेटवर्क का काम कर रहा है। एजीएल 20 सीएनजी स्टेशन्स चल रहा है - 9 डॉटर स्टेशन्स, 7 ऑनलाइन स्टेशन्स और 4 मदर स्टेशन्स|

Logo of Petronet MHB ltd. पेट्रोनेट एमएचबी लिमिटेड (पीएमएचबीएल) External Website that opens in a new window

एचपीसीएल ने पेट्रोनेट इंडिया लिमिटेड (पीआईएल) के साथ मिलकर, मंगलौर-हसन-बैंगलोर पाइप लाइन के निर्माण के लिए पेट्रोनेट एमएचबी लिमिटेड (पीएमएचबीएल) को सहयोग दिया है । 31 जुलाई 1998 को इस संयुक्त उद्यम कंपनी की शुरुआत हुई थी| इसकी अधिकृत शेयर पूंजी 600 करोड़ रुपये है| 31 मार्च 2016 पर, पीएचएमबीएल की चुकता पूंजी 548.71 करोड़ रुपए है। अप्रैल 2003 में, ओएनजीसी पीएमएचबीएल में एक भागीदार के रूप में शामिल हो गए। अगस्त 2016 में पीआईएल ने समान रूप से एचपीसीएल और ओएनजीसी को अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच दी हैं। वर्तमान में एचपीसीएल और ओएनजीसी की (पीएमएचबीएल) में हिस्सेदारी 32.72% प्रत्येक है।

पीएमएचबीएल मंगलौर में मैंगलोर रिफाइनरी (एमआरपीएल) से हसन और देवन्गोथि (बैंगलोर) पर तेल विपणन कंपनी टर्मिनलों के लिए पेट्रोलियम उत्पाद परिवहन सुविधा प्रदान करते हैं। पेट्रोलियम पाइपलाइन कर्नाटक के 8 जिलों से होकर गुजरता है और हसन, मैसूर, शिमोगा, बंगलौर आदि की आवश्यकताओं को पूरा करता है|

पीएमएचबीएल इन्टिग्रेटेड मैनेजमेंट सिस्टम (IMS),क्वालिटी मैनेजमेंट सिस्टम - ISO-9001,एन्वायरमेंटल मैनेजमेंट सिस्टम - ISO-14001 और OHSAS–18001 के लिए M/s.डीएनवी प्रमाणित है | कंपनी ने अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार अपने संचालन के लिए विभिन्न अद्यतन प्रौद्योगिकियों किया है।

Logo of MRPL मैंगलूर रिफाइनरीज़ एण्ड पेट्रोकैमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल) External Website that opens in a new window

एमआरपीएल , एम / एस हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) और एम / एस तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम लिमिटेड (ओएनजीसी) की एक संयुक्त उद्यम कंपनी मंगलौर में है।आज इसकी रिफाइनिंग क्षमता 15 एमएमटीपीए है।कंपनी को 7 मार्च 1988 को एम / एस हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) द्वारा शामिल किया गया और एम / एस आज इसकी रिफाइनिंग क्षमता 15 एमएमटीपीए है।कंपनी को 7 मार्च 1988 को एम / एस हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) और एम / एस आइआरआइल एंड एसोसिएट्स (ए वी बिर्ला समूह) प्रमोटरों के रूप में शामिल किया गया था| 2003 में ओएनजीसी ने ए वी बिर्ला समूह हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया और 600 करोड़ एमआरपीएल ओएनजीसी की सहायक कंपनी बना रही है। एचपीसीएल की इक्विटी 16.96% है।

एमआरपीएल राज्य के अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों और एक से प्रेरित कार्य बल के साथ सुसज्जित है। लगभग 9.5 का नेल्सन जटिलता सूचकांक के साथ, एमआरपीएल विश्व स्तर पर रिफाइनिंग उद्योग में अग्र स्थान पर है।

Logo of MAFFL मुंबई विमानन ईंधन फार्म सुविधा प्रा. लिमिटेड (MAFFFL) External Website that opens in a new window

मुंबई विमानन ईंधन फार्म सुविधा प्रा. लिमिटेड (MAFFFL)एक संयुक्त उद्यम कंपनी (जेवीसी) जिसमें शामिल है, मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (एमआईएएल) इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के साथ प्रत्येकी 25% इक्विटी होल्डिंग है। कंपनी को 26 फरवरी, 2010 को शामिल किया और इसकी अधिकृत पूंजी 300 करोड़ है।

कंपनी का कारोबार संचालित और मौजूदा विमानन ईंधन खेत सुविधाओं को बनाए रखने और छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (सीएसआईए), मुंबई में सेवाओं में विमान प्रदान करने के लिए है। कंपनी, निर्माण को बनाए रखने और एक ओपन एक्सेस आधार पर नए एकीकृत ईंधन फार्म सुविधा संचालित होगा।

Logo of GIGL जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड (जीआयजीएल) External Website that opens in a new window और Logo of GITL जीएसपीएल इंडिया ट्रांस्को लिमिटेड (जीआयटीएल) External Website that opens in a new window

जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड (जीआयजीएल) और जीएसपीएल इंडिया ट्रांस्को लिमिटेड (जीआयटीएल) को 13 अक्टूबर 2011 को गुजरात स्टेट पेट्रोनेट लिमिटेड (जीएसपीएल) में सहायक कम्पनी के रूप में शामिल किया गया है | 31 मार्च 2016 को जीआयजीएल और जीआयटीएल की अधिकृत शेयर कैपिटल हैं क्रमश: 2,000 करोड़ और 2,200 करोड़ रुपये|

30 वीं अप्रैल 2012 को गुजरात स्टेट पेट्रोनेट लिमिटेड (जीएसपीएल), आईओसीएल और बीपीसीएल (इक्विटी होल्डिंग: IOCL- 26%; GSPL- 52% HPCL- 11% और बीपीसीएल 11%) के साथ हस्ताक्षर करने के संयुक्त उद्यम समझौते के अनुसार एचपीसीएल जीआयजीएल और जीआयटीएल में एक इक्विटी भागीदार बन गया है । 31 मार्च 2016 पर, जीआयजीएल और जीआयटीएल की क्रमश: 202.02 करोड़ रुपये और 165 करोड़ रुपये तक का भुगतान किया है।

जीआयजीएल ने मेहसाणा (गुजरात )से बठिंडा (पंजाब) तक 1640 किलोमीटर गैस पाइप लाइन और बठिंडा (पंजाब) से श्रीनगर से तक 740 किलोमीटर पाइप लाइन के लिए योजना बनाई है | जीआयटीएल ने मल्लावरम (आंध्र प्रदेश) से भीलवाड़ा (राजस्थान) तक 1746 किलोमीटर पाइपलाइन डालने की योजना बनाई है|

Logo of HSEPL एचपीसीएल शापूरजी एनर्जी प्रा. लिमिटेड (HSEPL)

एचपीसीएल शापूरजी एनर्जी लिमिटेड (HSEL)15 अक्टूबर 2013 को एसपी पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (SPPL)[शापूरजी पालोनजी इन्फ्रास्ट्रक्चर कैपिटल कंपनी लिमिटेड की एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक (SPICCL)]के साथ एक संयुक्त उद्यम कंपनी की शुरुआत हुई थी । एचपीसीएल की अधिकृत शेयर पूंजी 50 करोड़ रुपये है। एचपीसीएल की 50 % इक्विटी की भागीदारी एचएसईपीएल में है| वित्तीय वर्ष 31 मार्च 2016 के अनुसार एचएसईपीएल ने 23 करोड़ रुपए पूंजी चुकता की है|

एचएसईपीएल कम्पनी की स्थापना गुजरात के जिला छारा पोर्ट गीर, सोमनाथ के यहां 5 एमएमटीपीए एलएनजी रिगैसिफिकेशन टर्मिनल बनाने के लिए और उसपर काम करने के लिए की गयी है|
एलएनजी टर्मिनल सुविधाओं में एलएनजी वाहक बर्थिंग, टैंक और भंडारण की सुविधा, पुनः गैसीकरण सुविधा के लिए समुद्री सुविधाएं भी शामिल है।

Logo of GGPL गोदावरी गैस प्रा. लिमिटेड (GGPL)

गोदावरी गैस प्रा. लिमिटेड (GGPL)हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) और आंध्र प्रदेश के गैस वितरण निगम लिमिटेड (APGDC)के बीच एक संयुक्त उद्यम है। कंपनी को 27 वें सितंबर 2016 को शामिल किया गया| प्रारंभिक अधिकृत शेयर पूंजी रुपये है 100 करोड़।

आंध्र प्रदेश में पूर्वी गोदावरी और पश्चिमी गोदावरी जिले के सिटी गैस वितरण नेटवर्क स्थापित करने के लिए जीजीपीएल को पीएनजीआरबी द्वारा अधिकृत किया गया है।

सहायक कंपनिया

Logo of Prize Petroleum Company Ltdप्राइज पेट्रोलियम कंपनी लिमिटेड (पीपीसीएल) External Website that opens in a new window

एचपीसीएल ने हाइड्रोकार्बन के अन्वेषण और उत्पादन के लिए 28 अक्टूबर 1998 को प्राइज पेट्रोलियम कंपनी लिमिटेड (पीपीसीएल) को सहयोग दिया था। पीपीसीएल की अधिकृत शेयर पूंजी 720 करोड़ थी । 31 मार्च 2016 की स्थिति के अनुसार, कंपनी की चुकता इक्विटी पूंजी रुपये है - 245 करोड़ रुपये| वर्ष 2011-12 के दौरान, पीपीसीएल एचपीसीएल की सहायक कंपनी के रूप में उभरकर आयी है |

पपीपीसीएल ने ओएनजीसी के साथ केम्बे बेसिन में हीरापुर सीमांत क्षेत्र के विकास के लिए सर्विस कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किए थे। पीपीसीएल इस क्षेत्र के लिए ऑपरेटर है। पीपीसीएल ने संयुक्त संचालक के रूप में संगनपुर ब्लॉक में 50% भागीदारी के साथ एक प्रोडक्शन शेयरिंग कांट्रेक्ट (पीएससी) पर हस्ताक्षर कियें है |

पीपीसीएल ने एक पूर्ण स्वामित्व वाली सबसिडियरी कंपनी प्राइज पेट्रोलियम इंटरनेशनल पीटीई.लिमिटेड सिंगापुर (PPIPL)को सहयोग दिया है। पीपीआयपीएल ने 11.25% और 9.75% के भागीदारी हित में दो ई एंड पी ब्लॉक , ऑस्ट्रेलिया में समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

Logo of HBL एचपीसीएल जैव ईंधन लिमिटेड (एचबीएल) External Website that opens in a new window

पेट्रोल में इथेनॉल के मिश्रण के लिए सरकार की नीति के साथ एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी एचपीसीएल जैव ईंधन लिमिटेड (एचबीएल) 16 वीं अक्टूबर 2009 में स्थापना हुई| एचबीएल की अधिकृत शेयर पूंजी 700 करोड़ रुपये है । 31 मार्च 2016 पर कुल एचबीएल की चुकता पूंजी रुपये 625.17 करोड़ रुपये है।

एचबीएल ने संपूर्ण यंत्र का निर्माण किया है| इसमें प्रति दिन 3,500 टन गन्ना कुचलने की क्षमता है और इथेनॉल बनाने के लिए प्रति दिन (KLPD) 60 किलो लीटर आसवनी प्राप्त होता है| बिहार राज्य में एक पश्चिमी चंपारण जिलों और पूर्व में सुगौली और लौरिया में और कम से 20 मेगावाट के सयंत्र का निर्माण किया है | कंपनी केवल गुड़ से इथेनॉल का निर्माण करने के लिए अपनी सुविधाओं में वृद्धि की है।

Logo of CHBL क्रेडा - एचपीसीएल बायोफ्यूल लिमिटेड (सीएचबीएल) External Website that opens in a new window

14 अक्टूबर 2008 को क्रेडा - एचपीसीएल बायोफ्यूल लिमिटेड (सीएचबीए) 200 करोड़ रुपये की अधिकृत शेयर पूंजी के साथ एचपीसीएल की एक सहायक कंपनी के रूप में सम्मिलित की गयी थी| 31 मार्च 2016 पर, सीएचबीएल ने इक्विटी चुकता पूंजी के रूप में 21.76 करोड़ रुपये है। एचपीसीएल 74% की इक्विटी हिस्सेदारी है और 26% छत्तीसगढ़ राज्य अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी (क्रेडा) की है । कंपनी का मुख्य उद्देश्य वैकल्पिक ईंधन का व्यापार करना है।

वर्ष 2015-16 के दौरान आपरेशन के गैर-व्यवहार्यता को देखते हुए, खेती और जटरोफा वृक्षारोपण के रखरखाव सहित सीएचबीएल के सभी व्यावसायिक गतिविधियों को निलंबित कर दिया गया है|

एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड (एचआरआरएल) External Website that opens in a new window

एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड (HRRL) की स्थापना एचपीसीएल के सबसिडियरी कंपनी के रूप में, 18 सितंबर 2013 को (HRRL) 4,000 करोड़ रुपये की अधिकृत शेयर पूंजी के साथ राजस्थान सरकार द्वारा की गयी है |एचपीसीएल की इक्विटी शेयरहोल्डिंग 74% है और 26% हिस्सेदारी राजस्थान सरकार की है | राजस्थान के राज्य में 9 एमएमटीपीए क्षमता की ग्रीनफील्ड रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल कॉम्‍पलेक्स बनाने के लिए इस कंपनी की स्थापना की गयी है|31 मार्च 2016 को एचआरआरएल की चुकता पूंजी 0.05 करोड़ रुपये है| वर्तमान में परियोजना की समीक्षा के अधीन है।

त्वरित लिंक्स