संयुक्त उद्यम कंपनियां एवं सहायक कंपनियां

हिन्दी
Image: 

पेट्रोलियम उत्पादों की रिफाइनिंग और मार्केटिंग कॉर्पोरेशन का मुख्य व्यवसाय है। नए राजस्व स्ट्रीम एवं व्यवसाय को और अधिक बढ़ाने के लिए अवसरों का पता लगाया गया है। तदनुसार, एचपीसीएल ने रिफाईनिंग, बिटुमेन इमल्शन, पाइपलाइन, सिटी गैस वितरण (सीजीडी), एलपीजी कैवर्न, प्राकृतिक गैस पाइपलाइन, एलएनजी टर्मिनल और जैव ईंधन के लिए सहायक कंपनियाँ और संयुक्त उद्यम कंपनियों का गठन किया।

संयुक्त उद्यम

Logo of HMELएचपीसीएल मित्तल एनर्जी लिमिटेड (एचएमई एल)

एचपीसीएल-मित्तल एनर्जी लिमिटेड (एचएमईएल) एचपीसीएल और मित्तल एनर्जी इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड, सिंगापुर के मध्य एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें प्रत्येक की इक्विटी होल्डिंग 48.99% है।

एचएमईएल, पंजाब के बठिंडा में 11.3 एमएमटीपीए रिफाइनरी का संचालन करती है। एचएमईएल द्वारा संचालित यह रिफाइनरी ऊर्जा कुशल, पर्यावरण के अनुकूल, उच्च आसुत उत्पादक संस्थान है जिसे उच्च मूल्य वर्धित पेट्रोलियम उत्पादों के उत्पादन के लिए डिज़ाइन किया गया है।

वर्ष 2018-19 के दौरान, एचएमईएल के कच्चे तेल की प्रवाह क्षमता रिकॉर्ड सर्वाधिक 12.47 एमएमटी दर्ज की गयी जिसके परिणामस्वरूप एचएमईएल ने 63,144 करोड़ रुपये का समेकित/कुल राजस्व और (पीएटी) अर्थात कर के उपरांत 1,468 करोड़ रुपये का समेकित/कुल लाभ अर्जित किया। सुरक्षा के प्रति कटिबद्धता एचएमईएल के मौलिक मूल्यों में अंतर्निहित है जिसे विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मान्यता दी गई है। 2018-19 के दौरान, एचएमईएल को प्रक्रिया सुरक्षा प्रबंधन (पीएसएम) ऑडिट में ब्रिटिश सेफ्टी काउंसिल द्वारा 5 स्टार रेटिंग से सम्मानित किया गया है।

Logo of HINCOL हिन्दुस्तान कोलाज प्राईवेट लिमिटेड (हिंकोल)

एचआईएनसीओएल, एचपीसीएल और कोलास एसए, फ्रांस का एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें प्रत्येक की 50% हिस्सेदारी है। एचआईएनसीओएल- बिटुमेन इमल्शन और मॉडिफाइड बिटुमेन के निर्माण और विपणन(मार्केटिंग) में संलग्न है। एचआईएनसीओएल माइक्रो-सरफेसिंग, स्लरी सीलिंग और फॉग सीलिंग सहित विभिन्न फुटपाथ रखरखाव गतिविधियों को भी करता है और भारत में मूल्य वर्धित बिटुमेन सेगमेंट में निरंतर मार्केट लीडर बना हुआ है। एचआईएनसीओएल विविध स्थानों पर स्थित 9 विनिर्माण संयंत्रों का स्वामी और संचालनकर्त्ता है और इन सभी संयत्रों को आईएसओ 9001, आईएसओ 14001 और ओएचएसएएस 18001 प्रमाणपत्र हासिल हैं ।

वर्ष 2018-19 के दौरान, एचआईएनसीओएल ने 229 टीएमटी के उच्चतम वार्षिक आय के साथ 9.4% की समग्र बिक्री वृद्धि दर्ज की। एचआईएनसीओएल ने बिटुमेन पायस में, 17.4% की शानदार वृद्धि हासिल की। कंपनी ने कुल 785.81 करोड़ रुपये का राजस्व और अब तक का सर्वाधिक 104.03 करोड़ रुपये का कर के उपरांत लाभ (पीएटी) दर्ज किया। भारत में सड़क निर्माण और रखरखाव की गतिविधियों की मांग में आयी तेज़ी को पूरा करने के लिए, एचआईएनसीओएल विशाखापत्तनम, गुवाहाटी और बठिंडा में नए संयंत्र स्थापित करके अपनी क्षमता का विस्तार कर रही है।

एचआईएनसीओएल पिछले 19 वर्षों से लाभांश का भुगतान कर रहा है और वर्ष 2018-19 में इसने 700% का लाभांश घोषित किया है।

Logo of SALPGसाउथ एशिया एलपीजी कंपनी प्रा. लि. (एसएएलपीजी)

साउथ एशिया एलपीजी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (एसएएलपीजी), एचपीसीएल और टोटल होल्डिंग इंडिया का एक संयुक्त उद्यम है जिसमें प्रत्येक की 50% इक्विटी होल्डिंग है। एसएएलपीजी विशाखापत्तनम में 60 टीएमटी क्षमता तथा संबंधित प्राप्त और प्रेषण सुविधाओं से युक्त भूमिगत एलपीजी कैवर्न का स्वामी/मालिक और संचालनकर्त्ता है।

वर्ष 2018-19 के दौरान, एसएएलपीजी ने इस कैवर्न से 1.460 एमएमटी एलपीजी प्राप्त किया। एसएलपीजी ने कुल 199.72 करोड़ रुपये का राजस्व और 102.89 करोड़ रुपये का कर के बाद का लाभ (पीएटी) दर्ज किया।

एसएएलपीजी पिछले 9 वर्षों से लगातार लाभांश का भुगतान कर रहा है। वर्ष 2018-19 के लिए, एसएएलपीजी बोर्ड ने 120% के उच्चतम कुल लाभांश की सिफारिश की है।

Logo of BGL भाग्यनगर गैस लिमिटेड (बीजीएल)

भाग्यनगर गैस लिमिटेड (बीजीएल), एचपीसीएल और गेल का संयुक्त उद्यम है, जिसमें दोनों 49.97% इक्विटी के साथ बराबर के हिस्सेदार हैं।

बीजीएल में 1,006 किमी मध्यम घनत्व की पॉली-एथिलीन (एमडीपीई) पाइपलाइन और 127 किमी स्टील पाइपलाइन वाला एक विशाल सीजीडी नेटवर्क है जो 36,810 घरेलू ग्राहकों की सेवा कर रहा है। बीजीएल आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के विविध शहरों जैसे हैदराबाद, विजयवाड़ा और काकीनाडा में 70 सीएनजी स्टेशन भी संचालित करता है।

बीजीएल ने वर्ष 2018-19 के दौरान पीएनजी की बिक्री में 37% की वृद्धि दर्ज करते हुए, 29,505 एमटी सीएनजी और 170 लाख स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर (एससीएम) पीएनजी की बिक्री की है। बीजीएल ने वर्ष के दौरान सर्वाधिक कुल राजस्व 187.62 करोड़ रुपये और 19.23 करोड़ रुपये का कर के बाद का लाभ (पीएटी) अर्जित किया।

Logo of Avantika Gas Ltdअवंतिका गैस लिमिटेड (एजीएल)

अवंतिका गैस लिमिटेड (एजीएल), एचपीसीएल और गेल का एक संयुक्त उद्यम है जिसमें दोनों 49.99% इक्विटी के साथ बराबर के हिस्सेदार हैं ।

एजीएल में 1951 किमी लम्बी एमडीपीई पाइपलाइन और 102 किमी लम्बी स्टील पाइपलाइन का विशाल सीजीडी नेटवर्क है और यह 51,203 घरेलू ग्राहकों की सेवा कर रही है। एजीएल, मध्य प्रदेश राज्य के इंदौर, उज्जैन, पीथमपुर और ग्वालियर शहरों में 39 सीएनजी स्टेशन भी संचालित करता है।

एजीएल ने पिछले वर्ष की तुलना में वर्ष 2018-19 के दौरान, सीएनजी में 26,373 एमटी और पीएनजी में 176 लाख एससीएम की बिक्री के साथ क्रमशः 21% और 51% की वृद्धि दर्ज की है। एजीएल ने 2018-19 के दौरान अब तक का सर्वाधिक 202.66 करोड़ रुपये का राजस्व और अधिकतम 25.94 करोड़ रुपये का कर के बाद का लाभ (पीएटी) दर्ज किया है।

Logo of Petronet MHB ltd. पेट्रोनेट एमएचबी लिमिटेड (पीएमएचबीएल)

पेट्रोनेट एमएचबी लिमिटेड (पीएमएचबीएल) एचपीसीएल और ओएनजीसी का एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें दोनों 32.72% की इक्विटी के स्वामी/मालिक हैं और शेष 34.56% की इक्विटी बैंकों और वित्तीय संस्थानों के अधीन है। पीएमएचबीएल, कर्नाटक के विभिन्न हिस्सों में एमआरपीएल रिफाइनरी के उत्पादों के परिवहन हेतु एक बहु उत्पाद पेट्रोलियम पाइपलाइन स्थापित कर रखी है और इसका संचालन करता है।

पीएमएचबीएल ने 2018-19 के दौरान 3.36 एमएमटी की प्रवाह क्षमता हासिल की है। पीएमएचबीएल ने पिछले वर्ष में 171.13 करोड़ रुपये की तुलना में 2018-19 के दौरान सर्वाधिक 203.02 करोड़ रुपये का राजस्व,और 2017-18 के 83.46 करोड़ रुपये की तुलना में इस वर्ष कर के बाद (पीएटी) 111.77 करोड़ रुपये का उच्चतम लाभ अर्जित किया है।

पीएमएचबीएल ने 2018-19 के दौरान मंगलुरु, हासन और देवांगुर्ती/वाल्व स्टेशनों और अनुभागीय वाल्व स्टेशनों सहित विभिन्न स्थानों पर सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किए हैं जिनकी कुल क्षमता 3.63 मेगावाट है।

Logo of MRPL मैंग्लोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल)

मैंगलोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल),एचपीसीएल और ओएनजीसी का एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें ओएनजीसी की 71.63% इक्विटी, एचपीसीएल की 16.96% इक्विटी, और शेष इक्विटी जनता द्वारा धारण की जाती है। एमआरपीएल शेड्यूल ’A’ मिनिरत्न का एक सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइज (सीपीएसई) है और कर्नाटक के मंगलुरु में एक 15 एमएमटीपीए रिफ़ाइनरी संचालित करता है।

एमआरपीएल ने वर्ष 2018-19 के दौरान सर्वाधिक 16.43 एमएमटी प्रवाह क्षमता का शोधन करते हुए 73,853 करोड़ रुपये का कुल राजस्व और 351.26 करोड़ रुपये का कर के बाद कुल लाभ (पीएटी ) दर्ज किया।

एमआरपीएल 1 अप्रैल, 2020 से रिफ़ाइनरी में ही बीएस VI ग्रेड ऑटो ईंधन का उत्पादन करने के लिए विविध परियोजनाएं लागू कर रहा है।

Logo of MAFFL मुंबई एविएशन फ्यूल फार्म फैसिलिटी प्राईवेट लिमिटेड (एमएएफएफएफएल)

मुंबई एविएशन फ्यूल फार्म फैसिलिटी प्राइवेट लिमिटेड अर्थात (एमएएफएफएफएल), मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (एमआईएएल), आईओसीएल, बीपीसीएल और एचपीसीएल का एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें प्रत्येक 25% इक्विटी के भागीदार हैं ।

कंपनी मौजूदा विमान ईंधन सुविधाओं के संचालन और रखरखाव का कार्य करती है और मुंबई के छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (सीएसआईए) में इनटू-प्लेन सेवाएं प्रदान करती है। कंपनी सभी के लिए(सर्वसुलभ) नई एकीकृत ईंधन फार्म सुविधा का निर्माण, रखरखाव और संचालन करेगी। मुंबई के छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (सीएसआईए) में एकीकृत ईंधन फार्म का निर्माण कार्य जोरों पर है।

एमएएफएफएफएल ने 2018-19 के दौरान 17.91 लाख किलो लीटर का क्षमता प्रवाह हासिल किया। एमएएफएफएफएल ने पिछले वर्ष में 139.38 करोड़ रुपये की तुलना में इस वर्ष सर्वाधिक 145.42 करोड़ रुपये की कुल आय दर्ज की है और कर के बाद लाभ अर्थात (पीएटी) में पिछले वर्ष में 47.22 करोड़ रुपये की तुलना में 51.84 करोड़ रुपये की वृद्धि करते हुए कुल 9.8% तक की वृद्धि दर्ज की है ।

Logo of GIGL जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड (जीआईजीएल)

जीएसपीएल इंडिया गैसनेट लिमिटेड (जीआईजीएल), गुजरात स्टेट पेट्रोनेट लिमिटेड (जीएसपीएल), इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और एचपीसीएल का संयुक्त उद्यम है। कंपनी में एचपीसीएल की 11% इक्विटी भागीदारी है और शेष इक्विटी जीएसपीएल (52%), आईओसीएल (26%) और बीपीसीएल (11%) के पास है।

जीआईजीएल को पूरे देश की दो गैस पाइपलाइनों अर्थात 1,640 किलोमीटर लंबी मेहसाणा से बठिंडा पाइपलाइन (एमबीपीएल) और 740 किलोमीटर लंबी बठिंडा से श्रीनगर पाइपलाइन (बीएसपीएल) को बिछाने के लिए अधिकृत किया गया है। बाड़मेर-पाली पाइप लाइन, पालनपुर-पाली पाइपलाइन और जालंधर-अमृतसर पाइपलाइन सहित लगभग 440 किमी लंबी पाइपलाइन को कवर करने वाली परियोजना के प्रारंभिक खंडों के लिए कार्य वर्ष 2018-19 के दौरान पूरा किया गया था और संचालन 2018-19 की तीसरी तिमाही(third quarter) में शुरू किया गया था। इसके बाद, कंपनी ने लगभग 0.90 एमएमएससीएमडी गैस का परिवहन किया है और कुल राजस्व 25.80 करोड़ रुपये दर्ज किया है।

Logo of GITLजीएसपीएल इंडिया ट्रांस्को लिमिटेड (जीआईटीएल)

जीएसपीएल इंडिया ट्रांसको लिमिटेड (जीआईटीएल) जीएसपीएल, आईओसीएल, बीपीसीएल और एचपीसीएल का एक संयुक्त उद्यम है। कंपनी में एचपीसीएल की 11% इक्विटी भागीदारी है और शेष इक्विटी जीएसपीएल (52%), आईओसीएल (26%), और बीपीसीएल (11%) के पास है।

जीआईटीएल को मल्लावरम से भीलवाड़ा तक 1,881 लंबी किमी पाइपलाइन बिछाने के लिए अधिकृत किया गया है। रिलायंस गैस ट्रांसमिशन इंडिया लिमिटेड (आरजीटीआईएल) के इंटरकनेक्शन पॉइंट से कुनचनापल्ली में रामागुंडम फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स प्लांट में रामागुंडम में इंटरकनेक्शन पॉइंट तक पाइप लाइन बिछाने की परियोजना का प्रारंभिक खंड पूरा होने के उन्नत चरण में है।

Logo of HSEPLएचपीसीएल शापुर्जी एनर्जी प्रा. लि. (एचएसईपीएल)

एचपीसीएल शापूरजी एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड (एचएसईपीएल), एचपीसीएल और एसपी पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के मध्य एक संयुक्त उद्यम है, जिसमें प्रत्येक की इक्विटी शेयरधारिता 50% है।

एचएसईपीएल गुजरात के गिर सोमनाथ जिले में छारा पोर्ट 5 एमएमटीपीए एलएनजी रिगैसिफिकेशन टर्मिनल के निर्माण और संचालन के लिए बनाया गया है। एलएनजी टर्मिनल की प्रमुख सुविधाओं में एलएनजी के वाहक की बर्थिंग और अनलोडिंग, स्टोरेज टैंक, रिगैसिफिकेशन सुविधाएं और संबंधित उपयोगिताओं के लिए समुद्री सुविधाएं शामिल हैं।

परियोजना के लिए पर्यावरण मंजूरी (ईसी) पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (MoEF और CC) से 2018-19 के दौरान प्राप्त की गई है। पेट्रोलियम विस्फोटक सुरक्षा संगठन (पीईएसओ) ने छारा एलएनजी टर्मिनल में सुविधाओं के निर्माण के लिए स्वीकृति प्रदान की है।

समुद्री सुविधाओं के लिए, प्रोक्योरमेंट एंड कंस्ट्रक्शन (ईपीसी) अनुबंध, एलएनजी भंडारण टैंकों, और रिगैसिफिकेशन सुविधाओं के लिए प्रतिस्पर्धी बोली के माध्यम से पुनर्वितरण सुविधाओं के लिए अनुबंध देने की प्रक्रिया चरण में है।

Logo of GGPL गगोदावरी गैस प्राईवेट लिमिटेड (जीजीपीएल)

गोदावरी गैस प्राइवेट लिमिटेड अर्थात (जीजीपीएल), आंध्र प्रदेश गैस डिस्ट्रीब्यूशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एपीजीडीसी) और एचपीसीएल के बीच 74:26 के अनुपात में इक्विटी स्टेक वाला एक संयुक्त उद्यम है।

आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी और पश्चिम गोदावरी जिलों में सिटी गैस वितरण नेटवर्क के विकास और संचालन के लिए जीजीपीएल का गठन किया गया है। जीजीपीएल में 246 किमी की एमडीपीई पाइपलाइन और 3.3 किमी लम्बी स्टील पाइपलाइन का एक विशाल एक सीजीडी नेटवर्क है और यह 26,162 घरेलू ग्राहकों को अपनी सेवा दे रही है। जीजीपीएल, पूर्वी और पश्चिम गोदावरी जिलों में 15 सीएनजी स्टेशन भी संचालित करता है।

जीजीपीएल ने सीएनजी की बिक्री में 39% की वृद्धि दर्ज करते हुए, वर्ष 2018-19 के दौरान 598 एमटी सीएनजी और 10.63 लाख एससीएम पीएनजी की बिक्री की है। जीजीपीएल ने कुल राजस्व 5.54 करोड़ रुपये दर्ज किया है।

Logo of RRPCL रत्नागिरि रिफाइनरी एंड पेट्रोलियम लिमिटेड (आरआरपीसीएल)

रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (आरआरपीसीएल), आईओसीएल, बीपीसीएल और एचपीसीएल द्वारा संचालित संयुक्त उद्यम है जिसमे ये तीनों क्रमशः 50:25:25 के अनुपातिक(Proportional) भागीदार हैं। आरआरपीसीएल ने महाराष्ट्र के पश्चिमी तट पर एकीकृत पेट्रोकेमिकल परिसर के साथ 60 एमएमटीपीए की एक रिफाइनरी स्थापित करने की योजना बनाई है। आईओसीएल, बीपीसीएल और एचपीसीएल के अलावा वर्ष 2018-19 में सऊदी अरामको और एडनॉक भी इस परियोजना को संयुक्त रूप से निष्पादित(perform) करने के लिए आरआरपीसीएल के साथ भागीदारी कर रहे हैं। परियोजना की बुनियादी तकनीकी विन्यास और पेट्रोकेमिकल्स के लिए आपूर्ति-मांग बाजार अध्ययन सहित प्रारंभिक व्यवहार्यता अध्ययन पूरा हो गया है। परियोजना के लिए विस्तृत विन्यास और विस्तृत व्यवहार्यता अध्ययन सहित पूर्व परियोजना गतिविधियाँ शुरू की गई हैं।

Logo of HOGPL एचपीओआईएल गैस प्राइवेट लिमिटेड (एचओजीपीएल)

30 नवंबर 2018 को एचपीओआईएल गैस प्राइवेट लिमिटेड (एचओजीपीएल) का गठन किया था , यह एचपीसीएल और ओआईएल इंडिया लिमिटेड (ओआईएल) एक संयुक्त उद्यम है जिसमें दोनों 50% इक्विटी के भागीदार हैं।

एचओजीपीएल का गठन हरियाणा राज्य के अंबाला-कुरुक्षेत्र जिलों और कोल्हापुर जिले के विभिन्न क्षेत्रों में सीजीडी नेटवर्क के विकास और संचालन के लिए किया गया है। वर्ष 2018-19 के दौरान एचओजीपीएल ने वित्तीय समापन हासिल किया है।

एचओजीपीएल ने एपीएम (प्रशासित मूल्य तंत्र) गैस के 6,000 एससीएमडी का आवंटन प्राप्त किया है और सीएनजी सोर्सिंग के लिए पास के सीजीडी संस्थाओं के साथ गैस सुविधा समझौते में भी प्रवेश किया है।

सहायक कंपनियां

Logo of Prize Petroleum Company Ltdप्राईज पेट्रोलियम कंपनी लिमिटेड (पीपीसीएल)

प्राइज़ पेट्रोलियम कंपनी लिमिटेड (पीपीसीएल), एचपीसीएल की सहायक कंपनी है जिसपर एचपीसीएल का पूर्ण स्वामित्व/ओनरशिप है और यह हाइड्रोकार्बन के अन्वेषण और उत्पादन (इ एन पी ) से लेकर इ एन पी ब्लॉकों के प्रबंधन हेतु अपनी सेवाएं प्रदान करती है। 2018-19 के दौरान, पीपीसीएल ने हीरापुर (गुजरात) में घरेलू तेल क्षेत्र से कुल 31,265 बैरल कच्चे तेल का उत्पादन किया।

पीपीसीएल, सिंगापूर स्थित (पीपीआईपीएल ) अर्थात प्राइज पेट्रोलियम इंटरनेशनल प्राईवेट लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व/ओनरशिप वाली सहायक कंपनी है। पीपीआईपीएल की ऑस्ट्रेलिया के दो ई एंड पी ब्लाकों- टी / एल 1 और टी / 18 पी में क्रमशः 11.25% और 9.75% की भागीदारी है। पीपीआईपीएल ने अपनी हिस्सेदारी से योला उत्पादन क्षेत्र (टी/एल 1) से 4,29,541 बीओई (बैरल ऑफ़ ऑयल इक्विवैलेंट) का उत्पादन किया है।

2018-19 के दौरान, पीपीसीएल ने पिछले वर्ष के दौरान प्राप्त 106.27 करोड़ रुपये की तुलना में समेकित आधार पर कुल 100.07 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया है।

Logo of HBL एचपीसीएल बायोफ्यूल्स लिमिटेड (एचबीएल)

एचपीसीएल बायोफ्यूल्स लिमिटेड (एचबीएल), एचपीसीएल की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। एचपीसीएल द्वारा पेट्रोल में मिलाने के लिए एथनॉल के निर्माण में कंपनी को अग्रणी बनाने हेतु एक पिछड़े एकीकृत पहल के रूप में एचबीसीएल का विकास किया गया था। बिहार राज्य के सुगौली और लौरिया जिलों में दो एकीकृत चीनी-इथेनॉल-कोजेनरेशन प्लांट,एचबीएल के अधीन हैं।

एचबीएल ने वर्ष 2018-19 के दौरान 9.76% की शुगर रिकवरी और 707 टीएमटी की गन्ना पेराई के साथ कुल 235.22 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया है। एचबीएल ने 2018-19 के दौरान 68,124 मीट्रिक टन का चीनी उत्पादन, 8,558 किलोलीटर इथेनॉल उत्पादन और 73,595 मेगावॉट बिजली का उत्पादन किया।

Logo of HRRL एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लि‍मिटेड (एचआरआरएल)

एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड (एचआरआरएल) एचपीसीएल और राजस्थान सरकार का संयुक्त उद्यम है जिसमें एचपीसीएल की 74% इक्विटी भागीदारी और राजस्थान सरकार 26% इक्विटी की भागीदार है। एचआरआरएल राजस्थान राज्य में 9 एमएमटीपीए ग्रीनफील्ड रिफाइनरी सह पेट्रोकेमिकल परिसर स्थापित कर रहा है। इस परियोजना की लागत 43,129 करोड़ रुपये आंकी गई है।

वर्ष 2018-19 में परियोजना का वित्तीय समापन पूरा हो गया है। 13 प्रसंस्करण इकाइयों के लिए प्रोसेस लाइसेंसर्स के नाम तय किये जा चुके हैं और इनपर निर्माण कार्य जारी है । परियोजना स्थल पर साइट की ग्रेडिंग, आंतरिक सड़कें बनाने, सीमा की दीवार का निर्माण आदि कार्य प्रगति पर हैं।

Logo of HMEFZCO एचपीसीएल मिडल ईस्ट एफजेडसीओ

एचपीसीएल मध्य पूर्व एफजेडसीओ, एचपीसीएल की पूर्ण स्वामित्व/ओनरशिप वाली सहायक कंपनी है, मध्य पूर्व और अफ्रीका के विभिन्न बाजारों में और स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल क्षेत्र (सीआईएस) में ल्युब्रिकेंट और अन्य पेट्रोलियम उत्पादों के विपणन के लिए इस कंपनी को विकसित किया गया है।

कंपनी,डीएएफज़ेडए (दुबई एयरपोर्ट फ्री ज़ोन अथॉरिटी) के तहत पंजीकृत है और इसका कार्यालय डीएएफज़ेडए कॉम्प्लेक्स में ही स्थित है और कंपनी के पास ल्युब्रिकेंट और ग्रीस, पेट्रोकेमिकल्स और परिष्कृत तेल उत्पादों के व्यापार हेतु व्यापारिक लाइसेंस है।

एचपीसीएल मध्य पूर्व एफजेडसीओ ने 2018-19 के दौरान अपना परिचालन/ऑपरेशन शुरू किया है और इस वर्ष 24 एमटी मूल्य वर्धित ल्युब्रिकेंट की बिक्री से कुल 0.12 मिलियन एईडी (0.23 करोड़ रुपये) का राजस्व अर्जित किया है।

निम्नलिखित कंपनी की वेबसाइट को अन्य लिंक टैब के तहत प्रदान किया जाना है:

अस्वीकरण: उपर्युक्त लिंक पर क्लिक करने से आपको इन संगठनों की वेबसाइटों पर निर्देशित किया जाता है, और इन वेबसाइटों पर व्यक्त की गई जानकारी और विचार इन संबंधित संगठनों में से हैं और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड इन वेबसाइटों में दी गई सामग्री के विचार / सटीकता के लिए उत्तरदायी नहीं हैI