सूचना का अधिकार अधिनियम 2005

हिन्दी
Image: 

सूचना मैन्युअल

(धारा 4 (1) अनुसरण करने के लिए (b)सूचना का अधिकार अधिनियम 2005), अंतिम 30/12/2019 को अपडेट किया गया

  1. संगठन का विवरण, उसके कार्य और कर्तव्य
  2. अधिकारियों और कामगारों के अधिकार और कर्तव्य
  3. निर्णय लेने की प्रक्रिया में पर्यवेक्षण और जवाबदेही शामिल है
  4. कार्यपालन के लिए निर्धारित मानदंड
  5. इसके कार्यपालन हेतु इसके कर्मचारियों द्वारा प्रयुक्त किए नियम, विनियम, अनुदेश, मैन्‍युअल और अभिलेख|
  6. इसके द्वारा धारित या इसके नियंत्रणाधीन दस्तावेजों की श्रेणियों की विवरणी
  7. उसके नीति या कार्यान्वयन के संबंध में जनता के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श के लिए व्यवस्था का विवरण
  8. बोर्ड एवं बोर्ड की उप-समितियों तथा अन्य समितियों का ब्योरा
  9. अधिकारियों और कामगारों की निर्देशिका
  10. अधिकारियों और कामगारों के मासिक वेतन सहित मुआवजे का ब्यौरा
  11. बजट आबंटन और व्यय
  12. सब्सिडी कार्यक्रमों के निष्पादन का तरीका जिसमें इस कार्यक्रम के लाभार्थियों और आबंटित राशि का ब्यौरा है
  13. प्राधिकारी द्वारा रियायतों, परमिट या प्राधिकरण के प्राप्तकर्ताओं का ब्यौरा
  14. इलेक्ट्रॉनिक प्रारुप में उपलब्ध जानकारी का विवरण
  15. जानकारी प्राप्‍त करने के लिए नागरिकों को उपलब्‍ध सुविधाओं का विवरण
  16. केंद्रीय सार्वजनिक सूचना अधिकारी और अपीलीय प्राधिकरण के नाम और पदनाम तथा अन्य जानकारी
  17. ऐसी अन्य सूचना के अनुसार निर्धारित किया जा सकता है:
    1. नागरिक और ग्राहक चार्टर
    2. वरिष्ठ प्रबंधन के लिए आचार संहिता
    3. कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर)
    4. लाभांश
    5. संयुक्त उपक्रम और सहायक कंपनियों
    6. एलपीजी पूछे जाने वाले प्रश्न
    7. जारी प्रोजेक्ट
    8. संवर्धन और हस्तांतरण नीति PDF File Opens in a new window
    9. प्रकाशन: वार्षिक रिपोर्ट्स, स्थिरता रिपोर्ट, एचपी समाचार (केवल आंतरिक परिसंचरण के लिए)
    10. खुदरा पूछे जाने वाले प्रश्न Opens in a new window
    11. आरटीआई अनुप्रयोगों और पहली अपील की स्थिति PDF File Opens in a new window
    12. निविदाएं प्रदान की गईं

अध्याय I: संगठन का विवरण, उसके कार्य और कर्तव्य

हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) कंपनी अधिनियम 1956 की धारा 617 के अर्थ में एक सरकारी कंपनी है। इसकी कॉर्पोरेट संख्या (सीआईएन) : L23201 MH1952GOI008858 है |

कॉर्पोरेशन का पंजीकृत कार्यालय का पता है - पेट्रोलियम हाउस, 17 जमशेदजी टाटा रोड, चर्चगेट, मुंबई 400020 है।

एचपीसीएल क्रमश: 1974 और 1976 में भारत सरकार द्वारा लिया गया है जो तत्कालीन विदेशी तेल कंपनियां एस्सो और काल्टेक्स का एकीकरण है।

एचपीसीएल 339.33 करोड़ रुपये की अभिदत्‍त पूंजी के साथ, केन्द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का एक उपक्रम है।

शेयर्स बीएसई / एनएसई पर सूचीबद्ध हैं और सक्रिय रूप से कारोबार कर रहे हैं।

एचपीसीएल, भारत तथा चुनिंदा देशों में कच्चे तेल की रिफाइनिंग के व्यापार तथा पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस, केरोसिन, ल्‍यूब ऑयल, मिट्टी का तेल, ब्रांडेड उत्पादों जैसे , बिजली, टर्बोजेट, एटीएफ (एविएशन टर्बाइन फ्यूल) आदि विभिन्न पेट्रोलियम उत्पादों के विपणन में लगा हुआ सबसे बड़ा एकीकृत सार्वजनिक क्षेत्र का एक उपक्रम है। इनमें से कुछ उत्पादों को अन्य देशों में निर्यात किया जाता है।

मुंबई और विशाखापतनम स्थित दोनों रिफाइनरियों का स्‍वामित्‍व एचपीसीएल के पास है।

एचपीसीएल ने वित्‍त, कंपनी सचिव, मानव संसाधनों, पब्लिक रिलेशन, विधि आदि जैसी सेवाओं में भागीदारी की सहायता के साथ भारत भर में रिटेल (पेट्रोल पम्‍प) , रसोई गैस, उद्योग एवं वाणिज्य , (जहाजों और उद्योगों को बल्‍क फ्यूल की आपूर्ति) , ल्युब्स , विमानन , रिफाइनरियों आदि के व्यापार पर ध्यान केंद्रित किया है।

एचपीसीएल भारत के प्रमुख शहरों में 7 रिटेल और 6 एलपीजी ज़ोनल कार्यालय है| इसके अलावा 90
क्षेत्रीय कार्यालय , 37 प्रमुख टर्मिनल / इन्‍स्‍टॉलेशन्‍स/ टॅप ऑफ पॉइन्‍ट्स, और पैन इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर नेटवर्क में शामिल है - ल्‍युब ब्‍लेंडिंग प्‍लांट, डिपो, एलपीजी बॉटलिंग प्लांट , एलपीजी इम्पोर्ट की सुविधा पेट्रोल पम्प , सीएनजी आउटलेट , ऑटो एलपीजी पम्प , एचपी गैस एलपीजी वितरक , एसकेओ / एलडीओ वितरक , ल्‍यूब सीएफएएस , एविएशन सर्विस फैसिलिटिस (ASF)इत्‍यादि।

एचपीसीएल का संचालन निदेशक मंडल द्वारा किया जाता है। बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक सहित अधिकतम 15 निदेशक होते हैं। कॉर्पोरेशन के प्रमुख पद पर अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक है। बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में पूर्णकालिक निदेशक (जिन्हें बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स कहा जाता है) निदेशक विपणन, , निदेशक रिफाइनरीज, निदेशक मानव संसाधन, निदेशक वित्त शामिल हैं। इसके अलावा, भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस निदेशकों, और आंशिक निदेशकों को नवरत्न निदेशक कहा जाता है | यह सभी निदेशक भारत सरकार द्वारा चुने गये हैं।

कार्यकारी निदेशक, महाप्रबंधकों तथा अन्य अधिकारियों / कर्मचारियों के द्वारा कॉर्पोरेशन के हर रोज के कार्य में निदेशक मंडल को सहायता प्रदान की जाती हैं। संघटना देखें संगठन का चार्ट PDF File Opens in a new window.

अध्याय II:अधिकारियों और कामगारों के अधिकार और कर्तव्य

कॉर्पोरेशन के अधिकारियों और कामगारों के अधिकार और कर्तव्य मुख्यत: कंपनी अधिनियम 1956, के प्रावधानों से कॉर्पोरेशन के ज्ञापन व घटना में दिए गये हैं तथा व्यक्तियों के प्रचालन क्षेत्र निर्दिष्‍ट करने वाले विभिन्न मैन्‍युअल, कार्य आधार, नियमों तथा नियुक्ति की शर्तें और निर्दिष्ट रूप में प्रदान की गई शक्तियों के अनुसार होते है।

एचपीसीएल एक व्यावसायिक संगठन है और कॉर्पोरेशन की घटना में दिए गये उद्देश्‍यों के अनुसार कॉर्पोरेशन की व्‍यापारिक प्रचालनों को निभाने के लिए अधिकारियों तथा कामगारों की नियुक्ति की जाती है।

हालांकि सौंपे गये कार्य को निभाते हुए, सभी कर्मचारियों को नियमों और विनियमों के प्रावधानों में लागू निर्देशों का पालन करना आवश्यक हैं।

अध्याय III: निर्णय प्रक्रिया में और साथ में पर्यवेक्षण और जवाबदेही कार्यप्रणाली

निर्णय प्रक्रिया:

कंपनी अधिनियम 1956 के अनुसार वे मामले जिसके निर्णय शेयरधारकों द्वारा वार्षिक सामान्य बैठक में लिये जाते हैं| ऐसे मामलों के अलावा शीर्ष स्तर पर निर्णय लेने का अधिकार एचपीसीएल के निदेशक मंडल का है। बोर्ड ने लेखा परीक्षा समिति, निवेश समिति, मानव संसाधन समिति, इन्वेस्टर शिकायत समिति, आदि जैसी अनेक उप समितियों का गठन किया है। जरूरत के आधार पर इन समितियों की बैठके बुलाई जाती हैं और इनकी बैठकों का मिनट जानकारी के लिए बोर्ड के सामने रखा जाता है। सीएफडी के अलावा, सरकार द्वारा नामित निदेशकों के साथ स्‍वतंत्र अप्रबंधनकार्यकारी निदेशक पूर्णकालिक सहायक की भूमिका निभा रहे हैं।

सीएमडी, कार्यात्मक निदेशकों और व्यापारिक यूनिटों के प्रमुखों शामिल करते हुए कॉर्पोरेशन ने एक कार्यकारी परिषद गठन किया है। यह परिषद संगठन के संबंध में महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार विमर्श करती है, उसी का विश्लेषण और चर्चा की गई मामलों के संबंध में ' आगे का रास्ता ' सुझाती है। टीम दृष्टिकोण , आपसी सहयोग और मुद्दों पर संयुक्त विचार विमर्श जिससे निर्णय प्रक्रिया आगे बढती है, इस पर परिषद द्वारा जोर दिया जाता है। इस प्रकार कारपोरेट विजन को प्राप्त करने के लिए एकीकृत सोच की प्रक्रिया में मदद मिलती है और कॉर्पोरेशन के भीतर गठबंधन दृष्टिकोण विकसित होता है।

प्राधिकरण का उपयोग:

कॉर्पोरेशन ने संगठन के भीतर विभिन्न स्तरों पर निर्णय लेने की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने, प्राधिकरण मैन्‍युअल, खरीद मैन्‍युअल, लेखा चार्ट, आदि की सीमाएं प्रलेखित की है।

प्राधिकरण सीमा मैन्‍युअल :

जिसे संक्षिप्‍त रुप में एलएएम कहा जाता है, कॉर्पोरेशन की विभिन्‍न गतिविधियों जैसे बोर्ड समिति, कार्यात्मक निदेशकों, कार्यकारी समिति, संविदा समिति, बिड्स समिति और वरिष्ठ पदों के व्‍यक्तियों आदि को भी ऐसे अधिकारों को प्रदान करता है कि जिसका विभिन्न स्तरों पर प्रयोग किया जा सकें। बिक्री, क्रूड और शिपिंग, पूंजीगत परियोजनाओं, संचालन, और वितरण, वित्त, मानव संसाधन आदि जैसे विभिन्न कार्यों के प्रतिनिधित्व को दर्शाते हुए, वित्त सहित अंतर-कार्यात्‍मक समूहों के प्रतिनिधित्‍व के साथ मैन्‍युअल का खंडों में विभाजन किया गया है, और उपर दर्शायी गई विभिन्न समितियों के माध्यम से निर्णय लेने की प्रक्रिया प्रदान करता है। यह एक पारदर्शी और सुव्यवस्थित प्रक्रिया है जिसमें मनमानी के लिए कोई जगह न छोड़ते हुए निर्धारित प्रणालियों और प्रक्रियाओं का पालन करते हुए निर्णय लेना सुनिश्चित करता है।

कार्यमूलक निदेशकों की समिति ने संगठन के भीतर विभिन्न उप - समितियों अर्थात, संविदा समिति,बिड्स समिति , क्रेडिट समिति आदि को और अधिक शक्तियॉं सौंपी है।

अधिप्राप्ति मैन्‍युअल:

मैन्‍युअल में खरीद करते समय और अनुबंधों को अंतिम रुप देते समय पालन की जाने वाली प्रक्रियाओं का विस्तृत ब्‍यौरा दिया गया है। इसमें, अन्य बातों के साथ, विभिन्न स्तरों पर खरीद के लिए सक्षम प्राधिकारी, मानदंडों और क्रय प्रक्रिया बताई गई है।

अध्याय IV: कार्य निर्वहन के लिए निर्धारित नियम

उचित स्तर पर नीचे की ओर अधिकारों का प्रत्‍यायोजन और व्‍यक्तिगत अधिकारियों के उपाय पूरे संगठनात्मक कार्य का आधार है। कार्य निर्वहन के लिए संगठन के अधिकारियों द्वारा कई प्रलेखित तथा मैन्‍युअल में दिए गये निर्देशों को विकसित किया गया हैं और निदेशक मंडल द्वारा अनुमोदित किए गये हैं।

संबंधित विभागों, केंद्रीय सतर्कता आयोग तथा केन्द्रीय सूचना आयोग के माध्यम से भारत सरकार द्वारा समय - समय पर जारी दिशानिर्देशों का भी पालन किया जाता है।

सेबी (SEBI),केन्द्रीय सतर्कता आयोग, स्टॉक एक्सचेंज लिस्टिंग समझौतों द्वारा जारी दिशा – निर्देशों को भी कार्य निर्वहन में सहायता मिलती है।

अध्याय V:अपने नियंत्रण में कॉर्पोरेशन द्वारा आयोजित या कार्यों के निर्वहन के लिए अपने कर्मचारियों द्वारा प्रयोग किए गए नियम, विनियम, अनुदेश,मैन्‍युअल और रिकार्ड।

एचपीसीएल के कामकाज को नियंत्रित करने वाले अधिनियम , विभिन्न कानूनों के तहत सांविधिक अनुपालन के लिए आवश्यक सभी मैन्‍युअल, रिकॉर्ड|

अध्याय VI: कॉर्पोरेशन द्वारा धारित या उसके नियंत्रण में रखे गये वर्गीकृत दस्तावेज़ों का विवरण

अध्याय V में दिए गये ब्‍यौरे के अनुसार विभिन्न दस्तावेज विशिष्‍ट कार्यो के है। कुछ मैन्‍युअलों के उपयोग गोपनीयता की शर्त द्वारा प्रतिबंधित है और सार्वजनिक जांच के लिए खुले नहीं है। निम्नलिखित मैन्‍युअल प्रतिबंधित हैं तथा सार्वजनिक जांच के लिए खुले नहीं हैं। इसी तरह के प्रतिबंध अपने कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए एचपीसीएल द्वारा उनके डीलर / वितरक के साथ किए गये विभिन्‍न ठेकों पर भी लागू है।

  • प्राधिकरण नियमावली की सीमाएं
  • क्रय नियमावली
  • सुरक्षा नियमावली
  • संरक्षा नियमावली
  • वैयक्तिक ऑपरेटिंग इकाइयों के लिए प्रचालन नियमावली
  • भूमि-पट्टा समझौते
  • डीलरशिप / वितरण समझौते
  • डीलर / वितरक चयन दिशा-निर्देश और संबंधित चयन दस्तावेज़
  • कर्मचारियों का आचरण, मुआवजा और लाभ, प्रदर्शन प्रबंधन आदि से संबंधित विभिन्न मैन्‍युअल

सूचना अधिकार अधिनियम के प्रावधानों के तहत पृथक्करणी खंड (severability clause) लगाने के बाद निम्‍नांकित नियमावली / अनुबंध की सार्वजनिक जांच के लिए अनुमति दी जा सकती है |

  • एचपीसीएल के ज्ञापन और आर्टिकल्‍स ऑफ एसोसिएशन
  • विभिन्‍न ऑपरेटिंग इकाइयों के लिए परिवहन संविदा
  • क्रय आदेश / संविदा
  • लाइसेंसेस- फैक्टरी / प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, एनएचएआइ/ विस्फोटक
  • डीलर / वितरक चयन दिशा-निर्देश तथा संबंधित चयन दस्तावेज़
  • ट्रेड मार्क्स / पंजीकरण

अध्याय VII : नीति बनाने या उसके कार्यान्‍वयन के संबंध में जनता के सदस्यों के साथ परामर्श के लिए व्यवस्था का विवरण

एचपीसीएल एक वाणिज्यिक संगठन है जो कच्चे तेल और तैयार उत्पादों के विपणन और संबद्ध उत्पादों का व्यापार करता है, जिसमें औपचारिक व्यवस्था अथवा समिति नहीं है। लेकिन जनता एचपीसीएल की गतिविधि के क्षेत्र में नीतियों को तैयार करने के लिए शामिल हो सकती है|

हालांकि, एचपीसीएल सेवा स्तर में सुधार करने के लिए और ग्राहकों की संतुष्टि के लिए जनता से फीडबैक लेता है |

अध्याय VIII : बोर्ड, परिषदों, समितियों और अन्य संस्था के गठन का विवरण। दो या दो से अधिक व्यक्तियों को शामिल करते हुए बोर्ड, परिषदों, समितियों और अन्य निकायों का गठन किया गया है| इसके भाग के रूप में या अपनी सलाह के उद्देश्‍य से उन बोर्डों परिषदों, समितियों और अन्य निकायों या उनकी बैठकों के कार्यवृत्त जनता के लिए खुले हैं।

शीर्ष स्तर पर एचपीसीएल अपने निदेशक मंडल द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

बोर्ड ने कार्यमूलक निदेशकों की समिति (सीएफडी) , लेखा परीक्षा समिति, निवेश समिति, मानव संसाधन समिति, इन्वेस्टर शिकायत निवारण समिति, तेल मूल्य जोखिम प्रबंधन समिति (OPRMC), उच्चाधिकार प्राप्त स्थायी समिति (ईएससी) आदि जैसी कई उप समितियां गठित की है। इन समितियों की बैठकें आवश्यकता के आधार पर बुलाई जाती हैं। सीएफडी को छोड़कर सरकार नामित कॉर्पोरेशन के पूर्णकालिक निदेशकों के साथ साथ अप्रबंधनकार्यकारी स्वतंत्र निर्देशक इन समितियों के अधिकांश सदस्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

उपर्युक्त उल्लिखित समिति की बैठकें / मिनट्स जनता के लिए खुले नहीं हैं। लेकिन कॉर्पोरेशन और / या उसके प्रबंधन के बारे में लिए गये महत्वपूर्ण निर्णय सांविधिक प्राधिकारियों को तथा देश में लागू कानून के तहत जनता के लिए भी सूचित किए जाते हैं।

अध्याय IX: अधिकारियों और कामगारों की निर्देशिका

एचपीसीएल में मार्च 2019 को कर्मचारियों की कुल संख्या 10,239 है। इसका विभाजन निम्‍नानुसार है:


समूह कुल कर्मचारी # कुल कर्मचारी % महिला कर्मचारी
प्रबंध 6,187 720 11.64
गैर प्रबंधन 4,052 249 6.15
कुल 10,239 969 9.46

वरिष्ठ प्रबंधन टीम की सूची PDF File Opens in a new window

पत्राचार के लिए ईमेल पता:

विपणन विषयों के बारे में: mktghqo(at)hpcl[dot]co[dot]in

अन्य सभी विषयों के बारे में: corphqo(at)hpcl[dot]co[dot]in

Click on शिकायतें और प्रतिक्रिया शिकायतें और प्रतिक्रिया रजिस्टर करने के लिए


अध्याय X:कामगार और कर्मचारियों के मुआवजे की प्रणाली सहित मासिक पारिश्रमिक का विवरण ।

अधिकारियों का पारिश्रमिक लोक उद्यम विभाग के निर्देशों के अनुसार है। कामगार मुआवजा मान्यता प्राप्त यूनियनों के साथ बातचीत के माध्यम से होता है। अधिकारियों और कामगारों के वेतनमान की न्यूनतम और अधिकतम मासिक वेतन संरचना इस प्रकार हैं:

प्रबंधन कर्मचारी (प्रभावी 1 जनवरी 2017)
वेतन ग्रेड बेसिक न्यूनतम बेसिक उच्चतम डी ए
60000 180000 औद्योगिक महंगाई भत्ते
बी 70000 200000
सी 80000 220000
डी 90000 240000
100000 260000
एफ 120000 280000
जी 120000 280000
एच 120000 280000
आय 150000 300000

विपणन – अप्रबंधन कर्मचारी (1st Oct. 2008 से प्रभावी )
वेतन ग्रेड बेसिक न्यूनतम बेसिक उच्चतम डी ए
एम 00 10380 15000 औद्योगिक महंगाई भत्ते
एम 01 12370 20410
एम 02 12510 22470
एम 03 12550 26310
एम 04 12610 27150
एम 05 12670 29380
एम 06 12870 31250
एम 07 13110 32850
एम 08 13500 37630
एम 09 13610 39300
एम 10 13920 40680
एम 11 14470 48600

विशाख रिफाइनरी - अप्रबंधन कर्मचारी - (प्रभावी 1st July 2007)
वेतन ग्रेड बेसिक न्यूनतम बेसिक उच्चतम महंगाई भत्ते
आर डब्ल्यू 0 8000 14000 औद्योगिक महंगाई भत्ते
आर डब्ल्यू 1 10000 20000
आर डब्ल्यू 2 11000 22000
आर डब्ल्यू 3 12800 28000
आर डब्ल्यू 4 13000 33000
आर डब्ल्यू 5 13300 38000
आर डब्ल्यू 6 13500 45000

मुंबई रिफाइनरी - अप्रबंधन कर्मचारी रिफाइनरी - अप्रबंधन कर्मचारी ( 1 अक्टूबर 2008 से लागू )
वेतन ग्रेड बेसिक न्यूनतम बेसिक उच्चतम महंगाई भत्ते
आर 00 10380 15000 औद्योगिक महंगाई भत्ते
आर 01 12370 20410
आर 02 12510 22470
आर 03 12610 27150
आर 04 12670 29380
आर 05 12870 31250
आर 06 13110 33500
आर 07 13800 38000
आर 08 13910 40000
आर 09 14120 41500
आर 10 14470 48600

अध्याय XI:बजट आबंटन और व्यय :

विस्तृत जानकारी के लिए, कृपया हमारी वार्षिक रिपोर्ट देखें|

कृपया ध्यान दें कि 21-18 सितंबर, 2016 को जारी केंद्रीय बजट परिपत्र के अनुसार, आर्थिक मामलों के विभाग (डीईए), वित्त मंत्रालय, भारत सरकार ने 'योजना' और गैर के रूप में वर्गीकृत खर्च के अभ्यास के साथ दूर करने का फैसला किया है। -योजना'। तदनुसार, 2017-18 के आंकड़े में 'कैपिटल बजट' के रूप में हेडर होगा, न कि 'नॉन प्लान कैपिटल बजट'।

2018-19 के लिए पूंजीगत बजट - करोड़ों में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 198 878 1076
विशाख रिफाइनरी 110 2705 2815
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर|) 797 1896 2693
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 831 269 1100
कॉर्पोरेट 232 110 342
2017-18 के लिए पूंजीगत बजट - करोड़ों में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 99 800 899
विशाख रिफाइनरी 117 789 906
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर|) 903 1876 2779
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 903 447 1350
कॉर्पोरेट 243 136 379
2016-17 के लिए गैर योजना पूंजीगत बजट - करोड़ों में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 148 94 242
विशाख रिफाइनरी 237 63 300
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर|) 1110 1112 2222
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 1788 124 1912
कॉर्पोरेट 105 107 212

2015-16 के लिए गैर योजना पूंजी बजट - करोड़ रुपए में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 135 78 213
विशाख रिफाइनरी 124 39 163
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर|) 934 1002 1936
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 700 327 1027
कॉर्पोरेट 124 112 236

2014-15 के लिए गैर योजना पूंजी बजट - करोड़ रुपए में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 51 129 180
विशाख रिफाइनरी 34 84 118
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर|) 1518 943 2461
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 948 134 1082
कॉर्पोरेट 114 112 226

2013-14 के लिए गैर योजना पूंजी बजट - करोड़ रुपए में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 100 101 201
विशाख रिफाइनरी 66 33 99
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर|) 664 1361 1726
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 357 350 707
कॉर्पोरेट 86 104 190

2012-13 के लिए गैर योजना पूंजी बजट - करोड़ रुपए में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 14 217 231
विशाख रिफाइनरी 11 69 80
विपणन कुल (एलपीजी सिलेंडर, वाल्व, रेग्युलेटर्स (CVR)को छोड़कर| 679 1397 2076
एलपीजी सीवीआर (ग्रॉस) 142 289 431
कॉर्पोरेट 41 114 155

2011-12 के लिए गैर योजना पूंजी बजट - करोड़ रुपए में राशि
स्थान / सुविधा नई परियोजनाओं के लिए जारी परियोजनाओं के लिए कुल व्यय
मुंबई रिफाइनरी 20 173 193
विशाख रिफाइनरी 47 74 121
विपणन- एलपीजी सिलिन्डर छोड़कर 1052 1003 2055
कॉर्पोरेट 124 131 254
एलपीजी सीवीआर 1144 0 1144

अध्याय XII : आबंटित राशि और ऐसे कार्यक्रमों के लाभार्थियों के विवरण सहित सब्सिडी कार्यक्रमों के निष्पादन की रीति

एचपीसीएल के पास जनता के लिए कोई सब्सिडी कार्यक्रम नहीं है

अध्याय XIII : परमिट , रियायतें पानेवाले का ब्यौरा

एचपीसीएल सीधे कोई रियायत, परमिट या अनुदान प्राधिकृति नहीं देता है। लेकिन एमओपीएनजी, दिशा निर्देश, पूरे भारत में रसोई गैस सब्सिडी का लाभ उठाने वाले एचपी गैस घरेलू उपभोक्ताओं का विवरण, यहाँ पर उपलब्ध है एचपीगैस ट्रांसपेरेन्‍सी पोर्टल External Website that opens in a new window

अध्याय XIV: इलेक्ट्रॉनिक रूप में अथवा सूचना के संबंध में उपलब्ध विवरण

इलेक्ट्रॉनिक रूप में उपलब्ध अथवा सूचना के संबंध में विवरण

निम्न जानकारी इलेक्ट्रॉनिक रूप में इसपर उपलब्ध है
www.hindustanpetroleum.com

अध्याय XV: सार्वजनिक इस्तेमाल के लिए बनाए गये पुस्तकालय या वाचनालय के काम के घंटों की सूचना प्राप्त करने हेतु नागरिकों के लिए उपलब्ध सुविधाओं का विवरण।

एचपीसीएल जनता के उपयोग के लिए किसी भी पुस्तकालय / वाचनालय की सुविधा प्रदान नहीं करता है।

हालांकि, एचपीसीएल और व्यावसायिक यूनिट्स के बारे में जानकारी इस वेबसाइट पर जनता के लिए उपलब्ध है। www.hindustanpetroleum.com


अध्याय XVI:नाम और पदनाम और केन्द्रीय लोक सूचना अधिकारी और अपीलीय प्राधिकारी के अन्य ब्यौरे|

सीपीआईओ - रिटेल क्षेत्रीय कार्यालय रिटेल आउटलेट हेतु ऑटोमोबाइल ईंधन, ऑटो एलपीजी ,वाहन , पेट्रोल पंप, सार्वजनिक वितरण प्रणाली (रियायती) मिट्टी के तेल, डीलर चयन से संबंधित।

सीपीआईओ - एलपीजी क्षेत्रीय कार्यालय घरेलू, औद्योगिक / बल्‍क, एलपीजी, वितरक चयन: एचपी गैस से संबंधित

सीपीआईओ - प्रत्यक्ष बिक्री क्षेत्रीय कार्यालय औद्योगिक / बल्‍क बिक्री, ल्‍युब्रिकैंट से संबंधित

सीपीआईओ - एचक्यूओ गैर क्षेत्रीय कार्यालय - विशिष्ट प्रश्न, रिफाइनरी आदि|

अपीलीय प्राधिकरण ऊपर दिए गए सीपीआईओ के जवाब से संबंधित अपील